Pages

Thursday, November 6, 2014

ஶிவம் - 8881_8920



सदायोगिने नमःஸதா³யோகி³னே நம​:
सद्वासनाशोभितायஸத்³வாஸனாஶோபி⁴தாய
सदसदात्मकायஸத³ஸதா³த்மகாய
सदयहृदयायஸத³யஹ்ருʼத³யாய
सदयायஸத³யாய
सयभावायஸயபா⁴வாய
सदसन्मयायஸத³ஸன்மயாய
सदसद्वृत्तिदायकायஸத³ஸத்³வ்ருʼத்திதா³யகாய
सद्सत्सर्वरत्नविदेஸத்³ஸத்ஸர்வரத்னவிதே³
सदसद्वरायஸத³ஸத்³வராய
सदसद्धक्तायஸத³ஸத்³த⁴க்தாய
सदसस्पतयेஸத³ஸஸ்பதயே
सदसत्सेव्यायஸத³ஸத்ஸேவ்யாய
संदक्षिणपादकटीटायஸந்த³க்ஷிணபாத³கடீதடாய
सदस्यायஸத³ஸ்யாய
सद्योजातायஸத்³யோஜாதாய
सद्योजात्मकपच्चिमवदनायஸத்³யோஜாத்மக பச்சிமவத³னாய
सद्योजात्मकमूलाधारकायஸத்³யோஜாத்மக மூலாதா⁴ரகாய
सद्योगिनेஸத்³யோகி³னே
सद्योजातात्मने नमः – ८९००ஸத்³யோஜாதாத்மனே நம​: – 8900
सद्योऽधिजाताय नमःஸத்³யோऽதி⁴ஜாதாய நம​:
सद्योजातरूपायஸத்³யோஜாதரூபாய
सद्रोहदक्षसवनविद्यातायஸத்³ரோஹ த³க்ஷ ஸவன வித்³யாதாய
सद्योजातात्मकपादायஸத்³யோஜாதாத்மக பாதா³ய
सद्भूतायஸத்³பூ⁴தாய
सद्भिस्संपूजितायஸத்³பி⁴ஸ்ஸம்பூஜிதாய
सद्गुणायஸத்³கு³ணாய
सान्द्रानंदसंदोहायஸாந்த்³ரானந்த³ஸந்தோ³ஹாய
स्कन्दायஸ்கந்தா³ய
स्कन्दगुरवेஸ்கந்த³கு³ரவே
सुदर्शनायஸுத³ர்ஶனாய
सुदेवायஸுதே³வாய
सुदृशेஸுத்³ருʼஶே
सुदीप्तायஸுதீ³ப்தாய
सुन्दरायஸுந்த³ராய
सुन्दरताण्डवायஸுந்த³ர தாண்ட³வாய
सुन्दरभ्रुवेஸுந்த³ர ப்⁴ருவே
सुन्दरविग्रहायஸுந்த³ர விக்³ரஹாய
सुन्दरचेष्टितायஸுந்த³ர சேஷ்டிதாய
सुन्दरसायकाय नमः – ८९२०ஸுந்த³ரஸாயகாய நம​: – 8920

 
Post a Comment