Pages

Monday, November 24, 2014

ஶிவம் - 9201_9240



समुद्रोद्भूतगरलङ्कधराय नमःஸமுத்³ரோத்³ பூ⁴தக³ரல கந்த⁴ராய நம:
समुद्रवनसारायஸமுத்³ரவன ஸாராய
समुद्रव्योममध्यस्थायஸமுத்³ர வ்யோம மத்⁴யஸ்தா²ய
समुद्रतनयाराध्यायஸமுத்³ர தனயாராத்⁴யாய
स्वमूर्तिकेलिसंप्रीरितायஸ்வமூர்திகேலி ஸம்ப்ரீதாய
समृद्धिमतेஸம்ருʼத்³தி⁴மதே
समृधिश्रियैஸம்ருʼதி⁴ஶ்ரியை
समृत्युकप्रपन्चौघ महाग्रासायஸம்ருʼத்யுக ப்ரபஞ்சௌக⁴ மஹாக்³ராஸாய
सामगायஸாமகா³ய
सामवेदायஸாமவேதா³ய
सामगायकायஸாமகா³யகாய
सामसुज्येष्ठसाम्नेஸாமஸு ஜ்யேஷ்ட²ஸாம்னே
सामवेदप्रियायஸாமவேத³ப்ரியாய
सामप्रियायஸாமப்ரியாய
सामगेयायஸாமகே³யாய
सामगप्रियायஸாமக³ப்ரியாய
सामवेत्रेஸாமவேத்ரே
सामलिंगायஸாமலிங்கா³ய
सामेक्षणायஸாமேக்ஷணாய
सामर्थ्याय नमः --९२२०ஸாமர்த்²யாய நம: --9220
साममयाय नमःஸாமமயாய நம:
सामगानविनोदनायஸாம கா³ன வினோத³னாய
सामगानप्रियायஸாமகா³ன ப்ரியாய
सामगानरतायஸாமகா³ன ரதாய
सामपञ्चदशायஸாமபஞ்சத³ஶாய
साम्नां धाम्नेஸாம்னாம்ʼ தா⁴ம்னே
सामगानसमाराध्यायஸாமகா³ன ஸமாராத்⁴யாய
सामवेद्यायஸாமவேத்³யாய
सामान्यायஸாமான்யாய
सामास्यायஸாமாஸ்யாய
सामान्यदेवायஸாமான்ய தே³வாய
सामाग्र्यायஸாமாக்³ர்யாய
स्वामिध्येयायஸ்வாமி த்⁴யேயாய
स्वामिचित्तानुवर्तिनेஸ்வாமி சித்தானு வர்தினே
स्वामिनेஸ்வாமினே
सुमङ्गलसुमङ्गलायஸுமங்க³ல ஸுமங்க³லாய
सुमंदायஸுமந்தா³ய
सुमेखलायஸுமேக²லாய
सुमंगलायஸுமங்க³லாய
सुमहास्वनाय नमः -- ९२४०ஸுமஹாஸ்வனாய நம: -- 9240

 
Post a Comment