Pages

Thursday, November 13, 2014

ஶிவம் - 9001_9040



स्वनाम सदृश सैन्दर्यान्विताय नमःஸ்வனாம ஸத்³ருʼஶ ஸைந்த³ர்யான்விதாய நம:
सन्नुतामलनांनेஸன்னுதாமலனாம்ʼனே
सन्निवासायஸன்னிவாஸாய
सन्निरूपकाय ஸன்னிரூபகாய
सन्मार्गसूचकायஸன்மார்க³ஸூசகாய
स्वानन्दमूलायஸ்வானந்த³மூலாய
स्वानंदामृतनिर्भरायஸ்வானந்தா³ம்ருʼத நிர்ப⁴ராய
स्वानुभूत्येकमानायஸ்வானுபூ⁴த்யேகமானாய
सन्मार्गसूचकार्थविदेஸன்மார்க³ஸூசகார்த²விதே³
सन्मीनेक्षणायஸன்மீனேக்ஷணாய
सन्मित्रायஸன்மித்ராய
संन्यासिनेஸம்ʼன்யாஸினே
संन्यासकृतेஸம்ʼன்யாஸக்ருʼதே
स्वानुभवायஸ்வானுப⁴வாய
स्थानदायஸ்தா²னதா³ய
सानंदांकुरायஸானந்தா³ங்குராய
सानंदमुनिविज्ञात हराख्याभूतयेஸானந்த³முனி விஜ்ஞாத ஹராக்²யாபூ⁴தயே
सुनयनायஸுநயனாய
सुनासायஸுநாஸாய
सुनिश्चलाय नमः –९०२०ஸுநிஶ்சலாய நம: –9020
सुनिष्पन्नाय नमःஸுநிஷ்பன்னாய நம:
सुनीतयेஸுநீதயே
सूनास्रविनाशनायஸூனாஸ்ர வினாஶனாய
सुनीतायஸுநீதாய
सूनृतायஸூன்ருʼதாய
सेनान्ये ஸேனான்யே
सेनापतये ஸேனாபதயே
सेनानीनाम् पावकयेஸேனானீனாம் பாவகயே
स्वेन तेजसा दीप्तिमते ஸ்வேன தேஜஸா தீ³ப்திமதே
सेनाकल्पायஸேனாகல்பாய
सेनाभ्योஸேனாப்⁴யோ
सेनानिभ्योஸேனானிப்⁴யோ
स्तेनरक्षकायஸ்தேனரக்ஷகாய
स्तेनानां पतयेஸ்தேனானாம்ʼ பதயே
स्फेंஸ்பே²ம்ʼ
स्रैम्ஸ்ரைம்
सप्तधाचारायஸப்த தா⁴சாராய
सप्तलोकधृतेஸப்தலோக த்⁴ருʼதே
सप्तजिह्वायஸப்தஜிஹ்வாய
सप्तलोकाय नमः – ९०४०ஸப்தலோகாய நம: – 9040

 
Post a Comment