Pages

Monday, November 10, 2014

ஶிவம் - 8921_8960



सुन्दरनाथाय नमःஸுந்த³ர நாதா²ய நம​:
सुन्दरेश्वरायஸுந்த³ரேஶ்வராய
सूदरायஸூத³ராய
सूद्यायஸூத்³யாய
सौदामिनीसमच्छायसुवस्त्रायஸௌதா³மினீ ஸமச்சா²ய ஸுவஸ்த்ராய
सौन्दर्यवतेஸௌந்த³ர்யவதே
सौन्दर्यसागरोद्भूतशङ्खसंनिभङ्कधरायஸௌந்த³ர்ய ஸாக³ரோத்³பூ⁴த ஶங்க² ஸம்ʼனிப⁴ங்க த⁴ராய
सौन्दर्यवल्लिवल्लभायஸௌந்த³ர்யவல்லிவல்லபா⁴ய
सद्धर्मिणेஸத்³த⁴ர்மிணே
साधनायஸாத⁴னாய
साधवेஸாத⁴வே
साध्यायஸாத்⁴யாய
साध्यासाध्य प्रदायिनेஸாத்⁴யாஸாத்⁴ய ப்ரதா³யினே
साध्यासाध्य समाराध्यायஸாத்⁴யாஸாத்⁴ய ஸமாராத்⁴யாய
साधारणायஸாதா⁴ரணாய
साधिविदेஸாதி⁴விதே³
साध्यर्षयेஸாத்⁴யர்ஷயே
स्वाधिष्टानायஸ்வாதி⁴ஷ்டானாய
स्वधाशक्तयेஸ்வதா⁴ஶக்தயே
संधये नमः – ८९४०ஸந்த⁴யே நம​: – 8940
संधात्रे नमःஸந்தா⁴த்ரே நம​:
संद्याभ्रवर्णायஸந்த்³யாப்⁴ரவர்ணாய
संध्याताण्डवसंरंभाघूर्णदिविषदेஸந்த்⁴யா தாண்ட³வ ஸம்ʼரம்பா⁴கூ⁴ர்ணதி³விஷதே³
स्वधर्मभङ्गभीतश्रीमुक्तिदायஸ்வத⁴ர்மப⁴ங்க³பீ⁴தஶ்ரீமுக்திதா³ய
स्वधर्मपरिपोषकायஸ்வத⁴ர்மபரிபோஷகாய
स्वधृतायஸ்வத்⁴ருʼதாய
सिद्धयेஸித்³த⁴யே
सिद्धिलेशव्ययकृतवरवेषायஸித்³தி⁴லேஶவ்யய க்ருʼதவரவேஷாய
सिद्धयोगिनेஸித்³த⁴யோகி³னே
सिद्दिप्रवर्तकायஸித்³தி³ப்ரவர்தகாய
सिद्धसाधकायஸித்³த⁴ஸாத⁴காய
सिद्धार्थायஸித்³தா⁴ர்தா²ய
सिद्धायஸித்³தா⁴ய
सिद्धार्चितपदाम्बुजायஸித்³தா⁴ர்சிதபதா³ம்பு³ஜாய
सिद्धभूतात्मकायஸித்³த⁴ பூ⁴தாத்மகாய
सिद्धबृन्दारकवन्दितायஸித்³த⁴ ப்³ருʼந்தா³ரக வந்தி³தாய
सिद्धमार्गप्रवर्तकायஸித்³த⁴மார்க³ ப்ரவர்தகாய
सिद्धसुरासुरसेवितलिङ्गायஸித்³த⁴ஸுராஸுர ஸேவித லிங்கா³ய
सिद्धाश्रयायஸித்³தா⁴ஶ்ரயாய
सिद्धिनायकाय नमः – ८९६०ஸித்³தி⁴ நாயகாய நம​: – 8960

 
Post a Comment