Pages

Sunday, November 16, 2014

ஶிவம் - 9081_9120



स्वप्नगाय नमःஸ்வப்னகா³ய நம:
स्वप्नायஸ்வப்னாய
सांप्रदायकायஸாம்ப்ரதா³யகாய
सुप्रदीपायஸுப்ரதீ³பாய
सुपसन्नायஸுபஸன்னாய
सुप्रकाश स्वरूपायஸுப்ரகாஶ ஸ்வரூபாய
सुप्रभेदागमनाभयेஸுப்ர பே⁴தா³க³மனாப⁴யே
सुप्रभायஸுப்ரபா⁴ய
सुप्रसादायஸுப்ரஸாதா³ய
सुप्रतीकायஸுப்ரதீகாய
सुप्रतापनायஸுப்ரதாபனாய
सुप्रजातायஸுப்ரஜாதாய
सुपात्रायஸுபாத்ராய
सुपोषायஸுபோஷாய
सुपाशायஸுபாஶாய
सुपर्णायஸுபர்ணாய
सुपर्णवाहनप्रितायஸுபர்ணவாஹனப்ரிதாய
सुपुष्पायஸுபுஷ்பாய
सुप्रीतानततेजसेஸுப்ரீதானததேஜஸே
सुप्रीताय नमः --९१००ஸுப்ரீதாய நம: --9100
सफलोदयाय नमःஸப²லோத³யாய நம:
साम्बायஸாம்பா³ய
सुबलायஸுப³லாய
सुबलाढ्यायஸுப³லாட்⁴யாய
सुबुद्धयेஸுபு³த்³த⁴யே
सुबल बाणासुर वरप्रदायஸுப³ல பா³ணாஸுர வரப்ரதா³ய
सुबीजायஸுபீஜாய
सुबंधविमोचनायஸுப³ந்த⁴விமோசனாய
सुबान्धवायஸுபா³ந்த⁴வாய
सुब्रह्मण्याय ஸுப்³ரஹ்மண்யாய
सभापतयेஸபா⁴பதயே
सभानाथायஸபா⁴நாதா²ய
सभावनायஸபா⁴வனாய
सभाभ्योஸபா⁴ப்⁴யோ
सभापतिभ्योஸபா⁴பதிப்⁴யோ
संभाव्यायஸம்பா⁴வ்யாய
संभग्नायஸம்ப⁴க்³னாய
संभ्रमायஸம்ப்⁴ரமாய
संभूतयेஸம்பூ⁴தயே
संभवाय नमः --९१२०ஸம்ப⁴வாய நம: --9120

 
Post a Comment