Pages

Friday, December 20, 2013

ஶிவன் 101 - 120



अतिताय नमःஅதிதாய நம​:
अतिगुणायஅதி கு³ணாய
अतुल्यायஅதுல்யாய
अत्यन्ततेजसेஅத்யந்த தேஜஸே
अतिगायஅதிகா³ய
अतिघातुकायஅதி கா⁴துகாய
अतिमूर्तयेஅதிமூர்தயே
अतिदूरस्थायஅதிதூ³ரஸ்தா²ய
अतर्कितायஅதர்கிதாய
अतर्क्यायஅதர்க்யாய
अतीन्द्रियगम्यायஅதீந்த்³ரிய க³ம்யாய
अतर्क्यमहिम्नेஅதர்க்ய மஹிம்னே
अतिघोर संसार महोरग भिषग्वरायஅதிகோ⁴ர ஸம்ʼஸார மஹோரக³ பி⁴ஷக்³வராய
अत्यदूरस्थायஅத்ய தூ³ரஸ்தா²ய
अत्रिपुत्रायஅத்ரி புத்ராய
अत्युग्नायஅத்யுக்³னாய
अतर्क्य महिमाधारायஅதர்க்ய மஹிமாதா⁴ராய
अति करुणास्पदायஅதி கருணாஸ் பதா³ய
अति स्वातन्त्र्य सर्वस्वायஅதி ஸ்வாதந்த்ர்ய ஸர்வஸ்வாய
अत्यन्त निरुत्तराय नमः – १२०அத்யந்த நிருத்தராய நம​: – 120

 
Post a Comment