Pages

Friday, December 27, 2013

ஶிவன் 221 -240




अनावेक्ष्याय नमःஅனாவேக்ஷ்யாய நம​:
अनन्तवीर्यायஅனந்தவீர்யாய
अनन्तमायिनेஅனந்தமாயினே
अनादि निधनायஅனாதி³ நித⁴னாய
अनन्त रूपिणेஅனந்த ரூபிணே
अन्नानांपतयेஅன்னானாம் பதயே
अनन्तकोटि ब्रह्माण्डनायकायஅனந்தகோடி ப்³ரஹ்மாண்ட³ நாயகாய
अनुपमेशायஅனுபமேஶாய
अनित्यनित्यरूपायஅனித்யநித்ய ரூபாய
अनवद्यायஅனவத்³யாய
अनावृतायஅனாவ்ருʼதாய
अनाद्यतीतायஅனாத்³ய தீதாய
अनेकरत्नमाणिक्य सुधाधारायஅனேக ரத்ன மாணிக்ய ஸுதா⁴தா⁴ராய
अनेककोटि शीतांशुप्रकाशायஅனேக கோடி ஶீதாம்ʼஶுப்ரகாஶாய
अनन्तवेदवेदान्त सुवेद्यायஅனந்தவேத³ வேதா³ந்த ஸுவேத்³யாய
अनेककोटि ब्रह्माण्डाधारकायஅனேககோடி ப்³ரஹ்மாண்டா³தா⁴ரகாய
अनन्तानन्दबोधाम्बुनिधिस्थायஅனந்தானந்த³ போ³தா⁴ம்பு³னிதி⁴ஸ்தா²ய
अनुपम महासौख्य पदस्थायஅனுபம மஹா ஸௌக்²ய பத³ஸ்தா²ய
अनित्य देह विभ्रान्ति भञ्जकायஅனித்ய தே³ஹ விப்⁴ராந்தி ப⁴ஞ்ஜகாய
अनिन्द्रियाय नमः – २४०அனிந்த்³ரியாய நம​: – 240

 
Post a Comment