Pages

Tuesday, December 31, 2013

ஶிவன் 281 - 300



अनन्तकोटि ब्रह्माण्डनियामकाय नमःஅனந்தகோடி ப்³ரஹ்மாண்ட³ நியாமகாய நம​:
अनङ्गमदापहारिणेஅனங்க³ மதா³ப ஹாரிணே
अनेकगुण स्वरूपायஅனேக கு³ண ஸ்வரூபாய
अनन्तकान्ति संपन्नायஅனந்தகாந்தி ஸம்பன்னாய
अनाकुल मङ्गलायஅனாகுல மங்க³லாய
अनुपम विग्रहायஅனுபம விக்³ரஹாய
अनाधारायஅனாதா⁴ராய
अनन्तानन्द बोघाम्बुनिधयेஅனந்தானந்த³ போ³கா⁴ம்பு³ நித⁴யே
अनर्घ्य फलदात्रेஅனர்க்⁴ய ப²ல தா³த்ரே
अनाथनाथात्मनेஅநாத² நாதா²த்மனே
अनेक शर्मदायஅனேக ஶர்மதா³ய
अनिलभुङ्नाथवलयायஅனில பு⁴ங்னாத²வலயாய
अनाकारायஅனாகாராய
अनन्जनायஅனன்ஜனாய
अन्नानांपतयेஅன்னானாம் பதயே
अनुपमरूपायஅனுபமரூபாய
अनलरोचिषेஅனல ரோசிஷே
अनन्तगुणाभिरामायஅனந் தகு³ணாபி⁴ ராமாய
अनात्मनेஅனாத்மனே
अनाथ रक्षकाय नमः – ३००அனாத² ரக்ஷகாய நம​: – 300

  
Post a Comment