Pages

Saturday, December 21, 2013

ஶிவன் - 121- 140




अतुलप्रभाय नमःஅதுல ப்ரபா⁴ய நம​:
अतिह्रुष्टायஅதிஹ்ருஷ்டாய
अद्भुतविग्रहायஅத்³பு⁴த விக்³ரஹாய
अद्वैतामृतायஅத்³வைதாம்ருʼதாய
अदिनायஅதி³னாய
अदम्भायஅத³ம்பா⁴ய
अदश्यायஅத³ஶ்யாய
अदितयेஅதி³தயே
अद्रिराजालयायஅத்³ரிராஜாலயாய
अद्रिणां प्रभवेஅத்³ரிணாம்ʼ ப்ரப⁴வே
अद्भुतायஅத்³பு⁴தாய
अद्वितीयायஅத்³விதீயாய
अद्वैतायஅத்³வைதாய
अद्रयेஅத்³ரயே
अद्वयानन्दविज्ञान सुखदायஅத்³வயானந்த³ விஜ்ஞான ஸுக²தா³ய
अद्रुष्टायஅத்³ருஷ்டாய
अदृप्तायஅத்³ருʼப்தாய
अद्भुत विक्रमायஅத்³பு⁴த விக்ரமாய
अद्रीन्द्रतनया महाभाग्यायஅத்³ரீந்த்³ர தனயா மஹாபா⁴க்³யாய
अद्वयाय नमः – १४०அத்³வயாய நம​: – 140

 
Post a Comment