Pages

Saturday, December 28, 2013

ஶிவன் 241 - 260



अनन्त करुणाय नमःஅனந்த கருணாய நம​:
अनित्य रूपायஅனித்ய ரூபாய
अनादिमूल हीनायஅனாதி³மூல ஹீனாய
अनादिमल संसाररोगवैद्यायஅனாதி³மல ஸம்ʼஸார ரோக³ வைத்³யாய
अनन्त तेजसेஅனந்த தேஜஸே
अनन्त जगज्जन्मत्रान संहारकारणायஅனந்த ஜக³ஜ் ஜன்மத்ரான ஸம்ʼஹார காரணாய
अनन्त योगायஅனந்த யோகா³ய
अनादिमतेஅனாதி³மதே
अनेक रूपायஅனேக ரூபாய
अनन्तशक्त्येஅனந்த ஶக்த்யே
अनादि नित्य मूर्तयेஅனாதி³ நித்ய மூர்தயே
अनाहतायஅனாஹதாய
अनाश्रितायஅனாஶ்ரிதாய
अनित्यनित्यमासायஅனித்யநித்யமாஸாய
अनिर्देश्य वयोरूपायஅனிர்தே³ஶ்ய வயோரூபாய
अनुपमायஅனுபமாய
अनन्त सोम सूर्याग्नि मण्डल प्रतिमप्रभायஅனந்த ஸோம ஸூர்யாக்³னி மண்ட³ல ப்ரதிம ப்ரபா⁴ய
अनत कल्याण गुणशालिनेஅனத கல்யாண கு³ணஶாலினே
अनन्त करुणायஅனந்த கருணாய
अनुगाय नमः – २६०அனுகா³ய நம​: – 260

 
Post a Comment