Pages

Tuesday, December 17, 2013

ஶிவன் 41- 60



अगुणाय नमःஅகு³ணாய நம​:
अग्र्यायஅக்³ர்யாய
अग्रदेशिकैश्वर्य वीर्यविजृम्भिणेஅக்³ரதே³ஶிகைஶ்வர்ய வீர்ய விஜ்ருʼம்பி⁴ணே
अग्रभुजेஅக்³ரபு⁴ஜே
अग्निगर्भायஅக்³னி க³ர்பா⁴ய
अगम्यगमनायஅக³ம்ய க³மனாய
अग्निमुखनेत्रायஅக்³னி முக² நேத்ராய
अग्निरूपायஅக்³னி ரூபாய
अग्निष्टोमर्त्विजायஅக்³னிஷ்டோமர்த்விஜாய
अघोरघोररूपायஅகோ⁴ரகோ⁴ர ரூபாய
अघस्मरायஅக⁴ஸ்மராய
अघोराष्टकतत्वायஅகோ⁴ராஷ்டகதத்வாய
अघोरायஅகோ⁴ராய
अघोरात्मक हृदयायஅகோ⁴ராத்மக ஹ்ருʼத³யாய
अघोरात्मक दक्षिणवदनायஅகோ⁴ராத்மக த³க்ஷிணவத³னாய
अघोरात्मक कण्ठायஅகோ⁴ராத்மக கண்டா²ய
अघोरेश्वरायஅகோ⁴ரேஶ்வராய
अघोरात्मनेஅகோ⁴ராத்மனே
अघघ्नायஅக⁴க்⁴னாய
अचलोपमाय नमः – ६०அசலோபமாய நம​: – 60


 
Post a Comment