Pages

Monday, December 23, 2013

ஶிவன் 141 -160



अदभ्र विभ्र मद्भुञ्ज गमश्व सद्विनिर्मक्रम स्फुरत्कराल फालहव्य वाड्ज्वलते नमःஅத³ப்⁴ர விப்⁴ர மத்³பு⁴ஞ்ஜ க³மஶ்வ ஸத்³வினிர்மக்ரம ஸ்பு²ரத் கரால பா²ல ஹவ்ய வாட்³ ஜ்வலதே நம​:
अदृश्यायஅத்³ருʼஶ்யாய
अधर्षणायஅத⁴ர்ஷணாய
अथर्वशीर्ष्णेஅத²ர்வஶீர்ஷ்ணே
अधिरोहायஅதி⁴ரோஹாய
अध्यात्मयोग निलयायஅத்⁴யாத்மயோக³ நிலயாய
अधिष्ठानायஅதி⁴ஷ்டா²னாய
अधर्मशत्रवेஅத⁴ர்ம ஶத்ரவே
अधरायஅத⁴ராய
अधोक्षजायஅதோ⁴க்ஷஜாய
अधृतायஅத்⁴ருʼதாய
अध्वरराजायஅத்⁴வரராஜாய
अध्यात्मानुगतायஅத்⁴யாத்மானுக³தாய
अथर्वलिङ्गायஅத²ர்வலிங்கா³ய
अधर्मशत्रुरूपायஅத⁴ர்ம ஶத்ரு ரூபாய
अथर्व ऋग्यजुःसाम तुरङ्गायஅத²ர்வ ருʼக்³யஜு​:ஸாம துரங்கா³ய
अधिशायஅதி⁴ஶாய
अथर्वण वेदमन्त्रजनकदक्षिणवदनायஅத²ர்வண வேத³மந்த்ர ஜனக த³க்ஷிண வத³னாய
अध्येत्रेஅத்⁴யேத்ரே
अध्यापकाय नमः -१६०அத்⁴யாபகாய நம​: -160

 
Post a Comment