Pages

Thursday, July 3, 2014

ஶிவம் - 5441_5480




मधुमतीनाथाय नमःமது⁴மதீ நாதா²ய நம​:
मधुपूजापरायणायமது⁴பூஜாபராயணாய
मधुपानरतायமது⁴பானரதாய
मधुपुत्रप्रियायமது⁴புத்ரப்ரியாய
मधुपुष्पप्रियायமது⁴புஷ்ப ப்ரியாய
मधुप्रियायமது⁴ப்ரியாய
मधुरसायமது⁴ரஸாய
मधुरानाथायமது⁴ரா நாதா²ய
मधुरपञ्जमनादविशारदायமது⁴ர பஞ்ஜமநாத³ விஶாரதா³ய
मधुरान्तकायமது⁴ராந்தகாய
मधुप्रियधर्शनायமது⁴ப்ரிய த⁴ர்ஶனாய
मधुरावासभुवेமது⁴ராவாஸ பு⁴வே
मधुरापुरनाथायமது⁴ராபுர நாதா²ய
मधुरापतयेமது⁴ராபதயே
मधुरिपुविधिशक्रमुख्यचेलैरपि नियमार्चितपादपद्मकायமது⁴ ரிபு விதி⁴ ஶக்ர முக்²ய சேலைரபி நியமார்சித பாத³ பத்³மகாய
मधुरषफराक्षिसहचरायமது⁴ர ஷப²ராக்ஷி ஸஹசராய
मधुरमथनदृगदूरचरणायமது⁴ர மத²ன த்³ருக³ தூ³ர சரணாய
मधुकृतेமது⁴க்ருʼதே
मधुरसंभाषणायமது⁴ர ஸம்பா⁴ஷணாய
मधवे नमः – ५४६०மத⁴வே நம​: – 5460
मधुराधिपाय नमःமது⁴ராதி⁴பாய நம​:
मधुकलोचनायமது⁴க லோசனாய
मधुवैरिणादर्शितप्रसादायமது⁴வைரிணா த³ர்ஶித ப்ரஸாதா³ய
मध्यमार्गप्रधर्शिनेமத்⁴ய மார்க³ ப்ரத⁴ர்ஶினே
मध्यलक्ष्यस्वरूपिणेமத்⁴ய லக்ஷ்ய ஸ்வரூபிணே
मध्यमाकृतयेமத்⁴யமாக்ருʼதயே
मध्यनाशकायமத்⁴ய நாஶகாய
मध्यस्थायமத்⁴யஸ்தா²ய
मध्यमिकानांशून्यायமத்⁴யமிகானாம்ʼஶூன்யாய
मान्धात्रेமாந்தா⁴த்ரே
मान्धातृपरिपूजितायமாந்தா⁴த்ருʼபரிபூஜிதாய
माधवप्रियायமாத⁴வ ப்ரியாய
माधव्यैமாத⁴வ்யை
माधवायமாத⁴வாய
मेधामूर्तयेமேதா⁴மூர்தயே
मेधाधारायமேதா⁴தா⁴ராய
मेधादायமேதா⁴தா³ய
मेध्यायமேத்⁴யாய
मेधसेமேத⁴ஸே
माध्यंदिनसवस्तुत्याय नमः – ५४८०மாத்⁴யந்தி³னஸவ ஸ்துத்யாய நம​: – 5480

 
Post a Comment