Pages

Saturday, July 5, 2014

ஶிவம் 5521-5560



मानाय नमःமானாய நம​:
मानरहितायமானரஹிதாய
माननीयायமானனீயாய
मीनाक्षीनायकायமீனாக்ஷீ நாயகாய
मीनदृक्क्रोडशृङ्गाग्रबिरुदावलयेமீன த்³ருʼக்க்ரோட³ ஶ்ருʼங்கா³க்³ர பி³ருதா³வலயே
मीनाक्षीप्राणवल्लभायமீனாக்ஷீ ப்ராணவல்லபா⁴ய
मुनयेமுனயே
मुनिसङ्घप्रयुक्ताश्मयष्टिलोष्टमुदितायமுனிஸங்க⁴ ப்ரயுக்தாஶ்ம யஷ்டிலோஷ்ட முதி³தாய
मुनिसेव्यायமுனிஸேவ்யாய
मुनीश्वरायமுனீஶ்வராய
मुनिप्रेषितवह्न्येणीडमर्वहिभृतेமுனிப்ரேஷித வஹ்ன்யேணீட³மர்வஹி ப்⁴ருʼதே
मुनिहृत्पुण्डरीकस्थायமுனிஹ்ருʼத் புண்ட³ரீகஸ்தா²ய
मुनिसङ्घैकजीवनायமுனிஸங்கை⁴க ஜீவனாய
मुनिगणमाननीयायமுனிக³ணமானனீயாய
मुनिमृग्यायமுனிம்ருʼக்³யாய
मुनित्रयपरित्राणदक्षिणामूर्तयेமுனித்ரய பரித்ராண த³க்ஷிணாமூர்தயே
मुनिप्रियायமுனிப்ரியாய
मुनिध्येयायமுனி த்⁴யேயாய
मुनिवृन्दादिभिर्ध्येयायமுனிவ்ருʼந்தா³தி³பி⁴ர் த்⁴யேயாய
मुनिज्ञानप्रदाय नमः – ५५४०முனிஜ்ஞான ப்ரதா³ய நம​: – 5540
मुनिभिर्गायते नमःமுனிபி⁴ர்கா³யதே நம​:
मुनिवृन्दनिषेवितायமுனிவ்ருʼந்த³ நிஷேவிதாய
मुनीनांव्यासायமுனீனாம்ʼவ்யாஸாய
मुनितनयायुर्वदान्यपदयुग्मायமுனி தனயாயுர்வ தா³ன்ய பத³யுக்³மாய
मुनिसहस्रसेवितायமுனிஸஹஸ்ரஸேவிதாய
मुनीन्द्रायமுனீந்த்³ராய
मुनीन्द्रानां पतयेமுனீந்த்³ரானாம்ʼ பதயே
मांभीजजपसंतोषितायமாம்பீ⁴ஜ ஜபஸந்தோஷிதாய
मंभीजजपसन्तुष्टायமம்பீ⁴ஜ ஜபஸந்துஷ்டாய
मीमांसकायமீமாம்ʼஸகாய
म्रींम्रींம்ரீம்ʼம்ரீம்ʼ
मुनूर्षुचित्तविभ्राजद्देशिकेन्द्रायமுனூர்ஷு சித்த விப்⁴ராஜத்³ தே³ஶிகேந்த்³ராய
ममत्वग्रन्थिविच्छेदलंपटायமமத்வ க்³ரந்தி² விச்சே²த³ லம்படாய
मुमुक्षूणांपरायै गतयेமுமுக்ஷூணாம்பராயை க³தயே
मयायமயாய
मयस्करायமயஸ்கராய
मयोभुवेமயோபு⁴வே
मयोभवायமயோப⁴வாய
मायिनेமாயினே
मायाश्रयाय नमः ५५६०மாயாஶ்ரயாய நம​: 5560

 
Post a Comment