Pages

Friday, July 4, 2014

ஶிவம் - 5481_5520



मनवे नमःமனவே நம​:
मनोहारिसर्वाङ्गरत्नादिभूषणायமனோஹாரி ஸர்வாங்க³ ரத்னாதி³ பூ⁴ஷணாய
मनोहरायமனோஹராய
मनोमयायமனோமயாய
मनोजकन्दराभ्राजत्कोकिलायமனோஜ கந்த³ராப்⁴ராஜத்கோகிலாய
मनोऽनावाप्यसौभाग्यसर्वाङ्गायமனோ(அ)நாவாப்ய ஸௌபா⁴க்³யஸர்வாங்கா³ய
मनोजवायமனோஜவாய
मनसेமனஸே
मनसिजंभकायமனஸிஜம்ப⁴காய
मन्मथमन्मथायமன்மத²மன்மதா²ய
मन्वादीनांपतयेமன்வாதீ³னாம்பதயே
मनुष्यधर्मानुगतायமனுஷ்யத⁴ர்மானுக³தாய
मनोवेगिनेமனோவேகி³னே
मनोहारिनिजाङ्गायமனோஹாரினிஜாங்கா³ய
मनोरूपिनेமனோரூபினே
मनोरमायமனோரமாய
मनोगतयेமனோக³தயே
मनोन्मनायமனோன்மனாய
मनोवागतीताय மனோவாக³தீதாய
मनोजं दहते नमः – ५५००மனோஜந்த³ஹதே நம​: – 5500
मनोवाचामगोचराय नमःமனோவாசாமகோ³சராய நம​:
मनोज्ञायமனோஜ்ஞாய
मनोरूपायமனோரூபாய
मनोभवायமனோப⁴வாய
मनुस्तुतायமனுஸ்துதாய
मनःस्थायமன​:ஸ்தா²ய
मन्मथाङ्गविनाशनायமன்மதா²ங்க³ விநாஶனாய
मन्मथनाशनायமன்மத² நாஶனாய
मनुष्यबाह्यगतयेமனுஷ்யபா³ஹ்யக³தயே
मन्यवेமன்யவே
मन्मथाङ्गविनाशकायமன்மதா²ங்க³ விநாஶகாய
मानिनेமானினே
मानधनायமானத⁴னாய
मान्यायமான்யாய
मानतःपरायமானத​:பராய
मान्यतां मान्यायமான்யதாம்ʼ மான்யாய
मानदायकायமானதா³யகாய
मानरूपायமானரூபாய
मानगम्यायமானக³ம்யாய
मानपूजापरायणाय नमः – ५५२०மான பூஜாபராயணாய நம​: – 5520

 
Post a Comment