Pages

Monday, July 7, 2014

ஶிவம் - 5561-5600



मायातीताय नमःமாயாதீதாய நம​:
मायापतयेமாயாபதயே
मायानामकभोक्तृत्वसाधनवपुरिन्द्रियादिजनकजन्तुसंस्रुष्टात्मनेமாயா நானாமக போ⁴க்த்ருʼத்வ ஸாத⁴னவபுரிந்த்³ரியாதி³ ஜனக ஜந்து ஸம்ʼஸ்ருஷ்டாத்மனே
मायाकल्पितमालुधानफणसंमाणिक्यभास्वत्तनवेமாயாகல்பித மாலுதா⁴ன ப²ணஸம்ʼமாணிக்ய பா⁴ஸ்வத்தனவே
मायाभीजजपप्रियायமாயாபீ⁴ஜ ஜபப்ரியாய
मायातन्त्रप्रवर्तकायமாயா தந்த்ர ப்ரவர்தகாய
मायाविनां हरयेமாயாவினாம்ʼ ஹரயே
मायारयेமாயாரயே
मायाविनेமாயாவினே
मायाभीजायமாயாபீ⁴ஜாய
मायाहन्त्रेமாயாஹந்த்ரே
मायायुक्तायமாயாயுக்தாய
मरणजन्मशून्यायமரண ஜன்ம ஶூன்யாய
मरुतां हन्त्रेமருதாம்ʼ ஹந்த்ரே
मरुतेமருதே
मरीचयेமரீசயே
मरणशोकजराटविदावानलायமரணஶோக ஜராடவிதா³வானலாய
मार्गहरायமார்க³ஹராய
मार्कण्डेयमनोभीष्टफलदायமார்கண்டே³ய மனோபீ⁴ஷ்ட ப²லதா³ய
मार्गाय नमः – ५५८०மார்கா³ய நம​: – 5580
मार्कण्डेयविजिज्ञासामहाग्रन्थिभिदे नमःமார்கண்டே³ய விஜிஜ்ஞாஸா மஹாக்³ரந்தி²பி⁴தே³ நம​:
मारमर्दनायமாரமர்த³னாய
मार्ताण्डमण्डलान्तस्थायமார்தாண்ட³மண்ட³லாந்தஸ்தா²ய
मार्ताण्डभैरवाराध्यायமார்தாண்ட³பை⁴ரவாராத்⁴யாய
मार्गद्वयसमेतायமார்க³ த்³வய ஸமேதாய
मुरारिनेत्रपूज्याङ्घ्रिपङ्कजायமுராரி நேத்ர பூஜ்யாங்க்⁴ரி பங்கஜாய
मुरारयेமுராரயே
मुरजिन्नेत्रारविन्दार्चितायமுரஜின் நேத்ராரவிந்தா³ர்சிதாய
मुरजडीण्डीमवाद्यविचक्षणायமுரஜ டி³ண்டி³மவாத்³ய விசக்ஷணாய
मूर्तयेமூர்தயே
मूर्तिसादाख्योत्तरवदनायமூர்திஸாதா³க்²யோத்தரவத³னாய
मूर्तितत्वरहितायापि स्वयं पञ्चब्रह्मादिमूर्तयेமூர்திதத்வ ரஹிதாயாபி ஸ்வயம்ʼ பஞ்ச ப்³ரஹ்மாதி³மூர்தயே
मूर्तिजायமூர்திஜாய
मूर्तिवर्जितायமூர்திவர்ஜிதாய
मूर्तिभवत्कृपापूरायமூர்திப⁴வத் க்ருʼபா பூராய
मूर्तायமூர்தாய
मूर्धगायமூர்த⁴கா³ய
मूर्तामूर्तस्वरूपायமூர்தாமூர்தஸ்வரூபாய
मेरुशृङ्गाग्रनिलयायமேருஶ்ருʼங்கா³க்³ர நிலயாய
मेरुकार्मुकाय नमः – ५६००மேருகார்முகாய நம​: – 5600


Download




Post a Comment