Pages

Saturday, July 26, 2014

ஶிவம் - 5961_6000




युक्तभावाय नमःயுக்தபா⁴வாய நம​:
युक्तयेயுக்தயே
युगाधिपायயுகா³தி⁴பாய
युगापहायயுகா³பஹாய
युगरूपायயுக³ரூபாய
युगकृतेயுக³க்ருʼதே
युगान्तकायயுகா³ந்தகாய
युगन्धरायயுக³ந்த⁴ராய
युगपत्सुरसाहस्राहङ्कारच्छेदिनेயுக³பத்ஸுர ஸாஹஸ்ராஹங்காரச்சே²தி³னே
युगादिकृतेயுகா³தி³க்ருʼதே
युगावर्तायயுகா³வர்தாய
युगाध्यक्षायயுகா³த்⁴யக்ஷாய
युगावहायயுகா³வஹாய
युगाधीशायயுகா³தீ⁴ஶாய
युगनाशकायயுக³ நாஶகாய
युगस्य प्रभवेயுக³ஸ்ய ப்ரப⁴வே
योगानां योगसिद्धिदायயோகா³னாம்ʼ யோக³ஸித்³தி⁴தா³ய
योगमायासमावृतायயோக³மாயா ஸமாவ்ருʼதாய
योगधात्रेயோக³தா⁴த்ரே
योगमायाय नमः – ५९८०யோக³மாயாய நம​: – 5980
योगमायाग्रसंभवाय नमःயோக³மாயாக்³ர ஸம்ப⁴வாய நம​:
योगर्धिहेतवेயோக³ர்தி⁴ஹேதவே
योगाधिपतयेயோகா³தி⁴பதயே
योगस्वामिनेயோக³ஸ்வாமினே
योगदायिनेயோக³தா³யினே
यागपीठान्तरस्थायயாக³பீடா²ந்தரஸ்தா²ய
योगस्यप्रभवेயோக³ஸ்ய ப்ரப⁴வே
योगरूपिणेயோக³ரூபிணே
योगारूपायயோகா³ரூபாய
योगज्ञाननियोजकायயோக³ஜ்ஞான நியோஜகாய
योगात्मनेயோகா³த்மனே
योगवतां हृत्स्थायயோக³வதாம்ʼ ஹ்ருʼத்ஸ்தா²ய
योगरतायயோக³ரதாய
योगायயோகா³ய
योगाचार्यायயோகா³சார்யாய
योगानन्दायயோகா³னந்தா³ய
योगाधीशायயோகா³தீ⁴ஶாய
योगमायासंवृतविग्रहायயோக³மாயா ஸம்ʼவ்ருʼத விக்³ரஹாய
योगमायामयायயோக³மாயாமயாய
योगसेव्याय नमः – ६०००யோக³ஸேவ்யாய நம​: – 6000


DOWNLOAD 


Post a Comment