Pages

Saturday, January 3, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0041_0080



कटाक्षितात्मविज्ञानाय नम:கடாக்ஷிதாத்ம விஜ்ஞானாய நம:
कैवल्यानन्दकन्दलायகைவல்யானந்த³ கந்த³லாய
मन्दहाससमानेन्दवेமந்த³ஹாஸ ஸமானேந்த³வே
छिन्नाज्ञानतमस्ततयेசி²ன்னா ஜ்ஞான தமஸ்ததயே
सम्सारनलसंतप्त जनतामृतसागरायஸம்ஸாரனல ஸந்தப்த ஜனதாம்ருʼத ஸாக³ராய
गम्भीरह्रुदयाम्भोज नभोमणिनिभाकृतयेக³ம்பீ⁴ர ஹ்ருத³யாம்போ⁴ஜ நபோ⁴மணி நிபா⁴க்ருʼதயே
निशाकरकराकार वशीकृतजगत्त्रयायநிஶாகர கராகார வஶீக்ருʼத ஜக³த் த்ரயாய
तापसाराध्यपादाब्जायதாபஸாராத்⁴ய பாதா³ப்³ஜாய
तरुणानन्दविग्रहायதருணானந்த³ விக்³ரஹாய
भूतिभूषितसर्वाङ्गायபூ⁴திபூ⁴ஷித ஸர்வாங்கா³ய
भूताधिपतयेபூ⁴தாதி⁴பதயே
ईश्वरायஈஶ்வராய
वदनेन्दुस्मितज्योत्स्ना निलीनत्रिपुराकृतयेவத³னேந்து³ ஸ்மித ஜ்யோத்ஸ்னா நிலீன த்ரிபுராக்ருʼதயே
तापत्रयतमोभानवेதாபத்ரய தமோபா⁴னவே
पापारण्यदवानलायபாபாரண்ய த³வானலாய
सम्सारसाकरोद्धर्त्रेஸம்ஸார ஸாகரோத்³த⁴ர்த்ரே
हम्साग्रयोपास्यविग्रहायஹம்ஸாக்³ரயோபாஸ்ய விக்³ரஹாய
ललाटहुतभुग्दग्ध मनोभवशुभाक्रुतयेலலாடஹுத பு⁴க்³த³க்³த⁴ மனோப⁴வ ஶுபா⁴க்ருதயே
तुच्छीक्रुतजगज्जालायதுச்சீ²க்ருத ஜக³ஜ்ஜாலாய
तुषारकरशीतलाय ६० துஷாரகர ஶீதலாய 60
अस्तङ्गतसमस्तेच्छाय नम:அஸ்தங்க³த ஸமஸ்தேச்சா²ய நம:
निस्तुलानन्दमन्थरायநிஸ்துலானந்த³ மந்த²ராய
धीरोदात्तगुणाधारायதீ⁴ரோதா³த்த கு³ணாதா⁴ராய
उदारवरवैभवायஉதா³ரவர வைப⁴வாய
अपारकरुणामूर्तयेஅபார கருணாமூர்தயே
अज्ञानध्वान्त भास्करायஅஜ்ஞான த்⁴வாந்த பா⁴ஸ்கராய
भक्तमानसहम्साग्र्यायப⁴க்தமானஸ ஹம்ஸாக்³ர்யாய
भवामयभिषक्तमायப⁴வாமய பி⁴ஷக்தமாய
योगीन्द्रपूज्यपादाब्जायயோகீ³ந்த்³ர பூஜ்ய பாதா³ப்³ஜாய
योगपट्टोल्लसत्कटयेயோக³பட்டோல்லஸத்கடயே
शुद्धस्फटिकसङ्काशायஶுத்³த⁴ ஸ்ப²டிக ஸங்காஶாய
बद्धपन्नगभूषणायப³த்³த⁴ பன்னக³ பூ⁴ஷணாய
नानामुनिसमाकीर्णायநானாமுனி ஸமாகீர்ணாய
नासाग्रन्यस्तलोचनायநாஸாக்³ரன்யஸ்த லோசனாய
वेदमूर्तैकसम्वेध्यायவேத³மூர்தைக ஸம்வேத்⁴யாய
नादध्यानपरायणायநாத³ த்⁴யான பராயணாய
धराधरेन्दवेத⁴ராத⁴ரேந்த³வே
आनन्दसन्दोहरससागरायஆனந்த³ ஸந்தோ³ஹரஸ ஸாக³ராய
द्वैतबृन्दविमोहान्ध्यपराक्रुतदृगद्भुतायத்³வைத ப்³ருʼந்த³ விமோஹாந்த்⁴ய பராக்ருத த்³ருʼக³த்³பு⁴தாய
प्रत्यगात्मने नम: ८० ப்ரத்யகா³த்மனே நம: 80

 
Post a Comment