Pages

Thursday, January 15, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0321_0360



गङ्घोद्भासितमूर्धजाय नम:க³ங்கோ⁴த்³பா⁴ஸித மூர்த⁴ஜாய நம:
कल्याणाचलकोदण्टायகல்யாணாசல கோத³ண்டாய
कमलापतिसायकायகமலாபதி ஸாயகாய
वाराम्शेवधितूणीरायவாராம்ஶேவதி⁴ தூணீராய
सरोजासनसारथयेஸரோஜாஸன ஸாரத²யே
त्रयीतुरङ्गसङ्क्रान्तायத்ரயீதுரங்க³ ஸங்க்ராந்தாய
वासुकिज्याविराजितायவாஸுகிஜ்யா விராஜிதாய
रवीन्दुचरणाचारिधरारथविराजितायரவீந்து ³சரணாசாரி த⁴ராரத²விராஜிதாய
त्रय्यन्तप्रग्रहोदारचारुघण्टारवोज्ज्वलायத்ரய்யந்த ப்ரக்³ ரஹோதா³ர சாரு க⁴ண்டாரவோஜ்ஜ்வலாய
उत्तानपर्वलोमाढ्यायஉத்தான பர்வலோமாட்⁴யாய
लीलाविजितमन्मथायலீலாவிஜித மன்மதா²ய
जातुप्रपन्नजनता जीवनोपायनोत्सुकायஜாது ப்ரபன்ன ஜனதா ஜீவனோபாயனோத்ஸுகாய
सम्सारार्णवनिर्मग्न समुद्धरणपण्डिताय ஸம்ஸாரார்ணவ நிர்மக்³ன ஸமுத்³த⁴ரண பண்டி³தாய
मदद्विरदधिक्कारिगतिमञ्जुलवैभवायமத³த்³விரத³தி⁴க்காரிக³தி மஞ்ஜுல வைப⁴வாய
मत्तकोकिलमाधुर्यरसनिर्भरगीर्गणायமத்தகோகில மாது⁴ர்ய ரஸ நிர்ப⁴ர கீ³ர்க³ணாய
कैवल्योदधिकल्लोललीलाताण्डवपण्डितायகைவல்யோத³தி⁴கல்லோல லீலாதாண்ட³வ பண்டி³தாய
विष्णवेவிஷ்ணவே
जिष्णवेஜிஷ்ணவே
वासुदेवायவாஸுதே³வாய
प्रभविष्णवे नम: ३४० ப்ரப⁴விஷ்ணவே நம: 340
पुरातनाय नम:புராதனாய நம:
वर्धिष्णवेவர்தி⁴ஷ்ணவே
वरदायவரதா³ய
वैद्यायவைத்³யாய
हरयेஹரயே
नारायणायநாராயணாய
अच्युतायஅச்யுதாய
अज्ञानवनदावाग्नयेஅஜ்ஞான வனதா³வாக்³னயே
प्रज्ञाप्रासादभूपतयेப்ரஜ்ஞா ப்ராஸாத³ பூ⁴பதயே
सर्पभूषितसर्वाङ्गायஸர்ப பூ⁴ஷித ஸர்வாங்கா³ய
कर्पूरोज्ज्वलिताक्रुतयेகர்பூரோஜ்ஜ்வலிதா க்ருதயே
अनादिमध्यनिधनायஅனாதி³ மத்⁴ய நித⁴னாய
गिरीशायகி³ரீஶாய
गिरिजापतयेகி³ரிஜாபதயே
वीतरागायவீதராகா³ய
विनीतात्मनेவினீதாத்மனே
तपस्विनेதபஸ்வினே
भूतभावनायபூ⁴தபா⁴வனாய
देवासुरगुरुध्येयायதே³வாஸுர கு³ருத்⁴யேயாய
देवासुरनमस्कृताय नम: ३६० தே³வாஸுர நமஸ்க்ருʼதாய நம: 360

 
Post a Comment