Pages

Monday, January 19, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0401_0440




हरिप्रियाय नम:ஹரிப்ரியாய நம:
निर्लेपायநிர்லேபாய
नीतिमतेநீதிமதே
सूत्रिणेஸூத்ரிணே
श्रीहालाहलसुन्दरायஶ்ரீ ஹாலாஹல ஸுந்த³ராய
धर्मदक्षायத⁴ர்ம த³க்ஷாய
महाराजायமஹாராஜாய
किरीटिनेகிரீடினே
वन्दितायவந்தி³தாய
गुहायகு³ஹாய
माधवायமாத⁴வாய
यामिनीनाथायயாமினீ நாதா²ய
शम्बरायஶம்ப³ராய
शबरीप्रियायஶப³ரீ ப்ரியாய
सङ्गीतवेत्रेஸங்கீ³த வேத்ரே
लोकज्ञायலோகஜ்ஞாய
शान्तायஶாந்தாய
कलशसम्भवायகலஶ ஸம்ப⁴வாய
प्रह्मण्यायப்ரஹ்மண்யாய
वरदाय नम: ४२० வரதா³ய நம: 420
नित्यायनम:நித்யாய நம:
शूलिनेஶூலினே
गुरुवराय हरायகு³ருவராய ஹராய
मार्ताण्डायமார்தாண்டா³ய
पुण्डरीकाक्षायபுண்ட³ரீகாக்ஷாய
लोकनायकविक्रमायலோகநாயக விக்ரமாய
मुकुन्दार्च्यायமுகுந்தா³ர்ச்யாய
वैद्यनाथायவைத்³யநாதா²ய
पुरन्दरवरप्रदायபுரந்த³ரவரப்ரதா³ய
भाषाविहीनायபா⁴ஷாவிஹீனாய
पाषाज्ञायபாஷாஜ்ஞாய
विघ्नेशायவிக்⁴னேஶாய
विघ्ननाशनायவிக்⁴ன நாஶனாய
किन्नरेशायகின்னரேஶாய
बृहद्भानवेப்³ருʼஹத்³பா⁴னவே
श्रीनिवासायஶ்ரீனிவாஸாய
कपालभृतेகபாலப்⁴ருʼதே
विजयायவிஜயாய
भृतभावज्ञायப்⁴ருʼதபா⁴வஜ்ஞாய
भीमसेनाय नम: ४४० பீ⁴மஸேனாய நம: 440

 
Post a Comment