Pages

Tuesday, January 20, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0441_0480



दिवाकराय नम:தி³வாகராய நம:
बिल्वप्रियायபி³ல்வ ப்ரியாய
वसिष्ठेशायவஸிஷ்டே²ஶாய
सर्वमार्गप्रवर्तकायஸர்வமார்க³ ப்ரவர்தகாய
ओषधीशायஓஷதீ⁴ஶாய
वामदेवायவாமதே³வாய
कोविन्दायகோவிந்தா³ய
नीललोहितायநீலலோஹிதாய
षडर्धनयनायஷட³ர்த⁴னயனாய
श्रीमन्महादेवायஶ்ரீமன்மஹாதே³வாய
वृषध्वजायவ்ருʼஷத்⁴வஜாய
कर्पूरदीपिकालोलायகர்பூர தீ³பிகாலோலாய
कर्पूररसचर्चितायகர்பூர ரஸசர்சிதாய
अव्याजकरुणामूर्तयेஅவ்யாஜ கருணாமூர்தயே
त्यागराजायத்யாக³ராஜாய
क्षपाकरायக்ஷபாகராய
आश्चर्यविग्रहायஆஶ்சர்ய விக்³ரஹாய
सूक्ष्मायஸூக்ஷ்மாய
सिद्धेशायஸித்³தே⁴ஶாய
स्वर्णभैरवाय नम: ४६० ஸ்வர்ண பை⁴ரவாய நம: 460
देवराजाय नम :தே³வராஜாய நம :
क्रुपासिन्धवेக்ருபாஸிந்த⁴வே
अद्वयायஅத்³வயாய
अमितविक्रमायஅமிதவிக்ரமாய
निर्भेदायநிர்பே⁴தா³ய
नित्यसत्वस्थायநித்ய ஸத்வஸ்தா²ய
निर्योगक्षेमायநிர்யோக³ க்ஷேமாய
आत्मवतेஆத்மவதே
निरपायायநிரபாயாய
निरासङ्गायநிராஸங்கா³ய
नि:शब्दायநி:ஶப்³தா³ய
निरुपाधिकायநிருபாதி⁴காய
भवायப⁴வாய
सर्वेश्वरायஸர்வேஶ்வராய
स्वामिनेஸ்வாமினே
भवभीतिविभञ्जनायப⁴வபீ⁴தி விப⁴ஞ்ஜனாய
दारिद्र्यतृणकूटाग्नयेதா³ரித்³ர்ய த்ருʼணகூடாக்³னயே
दारितासुरसन्ततयेதா³ரிதாஸுர ஸந்ததயே
मुक्तिदायமுக்திதா³ய
मुदिताय नम: ४८० முதி³தாய நம: 480

 
Post a Comment