Pages

Tuesday, January 27, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0641_0680




सुरोत्तमाय नम:ஸுரோத்தமாய நம:
चित्रभानवेசித்ரபா⁴னவே
सदावैभवतत्परायஸதா³வைப⁴வ தத்பராய
सुहृद्ग्रेसरायஸுஹ்ருʼத்³ க்³ரேஸராய
सिद्धज्ञानमुद्रायஸித்³த⁴ஜ்ஞான முத்³ராய
गणाधिपायக³ணாதி⁴பாய
आगमायஆக³மாய
चर्मवसनायசர்மவஸனாய
वाञ्छितार्थफलप्रदायவாஞ்சி²தார்த² ப²லப்ரதா³ய
अन्तर्हितायஅந்தர் ஹிதாய
असमानायஅஸமானாய
देवसिम्हासनाधिपायதே³வ ஸிம்ஹாஸனாதி⁴பாய
विवादहन्त्रेவிவாத³ஹந்த்ரே
सर्वात्मनेஸர்வாத்மனே
कालायகாலாய
कालविवर्जितायகால விவர்ஜிதாய
विश्वातीतायவிஶ்வாதீதாய
विश्वकर्त्रेவிஶ்வகர்த்ரே
विश्वेशायவிஶ்வேஶாய
विश्वकारणाय नम: ६६० விஶ்வகாரணாய நம: 660
योगिध्येयाय नम:யோகி³ த்⁴யேயாய நம:
योगनिष्टायயோக³ நிஷ்டாய
योगात्मनेயோகா³த்மனே
योगवित्तमायயோக³வித்தமாய
ओङ्काररूपायஓங்கார ரூபாய
भगवतेப⁴க³வதே
बिन्दुनादमयाय शिवायபி³ந்து³நாத³மயாய ஶிவாய
चतुर्मुखादीसम्स्तुत्यायசதுர்முகா²தீ³ ஸம்ஸ்துத்யாய
चतुर्वर्गफलप्रदायசதுர்வர்க³ ப²லப்ரதா³ய
सह्याचलकुहावासिनेஸஹ்யாசல குஹாவாஸினே
साक्षान्मोक्षरसामृतायஸாக்ஷான்மோக்ஷ ரஸாம்ருʼதாய
तक्षाध्वरसमुच्छेत्रेதக்ஷாத்⁴வர ஸமுச்சே²த்ரே
पक्षपातविवर्जितायபக்ஷபாத விவர்ஜிதாய
ओङ्कारवाचकायஓங்கார வாசகாய
शम्भवेஶம்ப⁴வே
शङ्करायஶங்கராய
शशिशीतलायஶஶிஶீதலாய
पङ्कजासनसम्सेव्यायபங்கஜாஸன ஸம்ஸேவ்யாய
किङ्करामरवत्सलायகிங்கராமரவத்ஸலாய
नतदौभाग्यतूलाग्नये नम: ६८० நததௌ³பா⁴க்³ய தூலாக்³னயே நம: 680

 
Post a Comment