Pages

Tuesday, January 13, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0281_0320



चिन्मयाय नम:சின்மயாய நம:
तमस:परायதமஸ:பராய
ज्ञानवैराग्यसम्पन्नायஜ்ஞானவைராக்³யஸம்பன்னாய
योगानन्दमयाय शिवायயோகா³னந்த³மயாய ஶிவாய
शाश्वतैश्वर्यसम्पूर्णायஶாஶ்வதைஶ்வர்யஸம்பூர்ணாய
महायोगीश्वरेश्वरायமஹாயோகீ³ஶ்வரேஶ்வராய
सहस्रशक्तिसम्युक्तायஸஹஸ்ரஶக்திஸம்யுக்தாய
पुण्यकायायபுண்யகாயாய
तुरासदायதுராஸதா³ய
तारकब्रह्मसम्पूर्णायதாரகப்³ரஹ்மஸம்பூர்ணாய
तपस्विजनसम्वृतायதபஸ்விஜனஸம்வ்ருʼதாய
विधीन्द्रामरसम्पूज्यायவிதீ⁴ந்த்³ராமரஸம்பூஜ்யாய
ज्योतिषाम् ज्योतिषे ஜ்யோதிஷாம் ஜ்யோதிஷே
उत्तमायஉத்தமாய
निरक्षरायநிரக்ஷராய
निरालम्बायநிராலம்பா³ய
स्वात्मारामायஸ்வாத்மாராமாய
विकर्तनाय விகர்தனாய
निरवद्यायநிரவத்³யாய
निरातङ्काय नम: ३०० நிராதங்காய நம: 300
भीमाय नम:பீ⁴மாய நம:
भीमपराक्रमायபீ⁴மபராக்ரமாய
वीरभद्रायவீரப⁴த்³ராய
पुरारातयेபுராராதயே
जलङ्धरशिरोहरायஜலங்த⁴ரஶிரோஹராய
अन्धकासुरसम्हर्त्रेஅந்த⁴காஸுரஸம்ஹர்த்ரே
भकनेत्रभितेஅகுண்டா²மேதஸே
अद्भुतायஅத்³பு⁴தாய
विश्वग्रासायவிஶ்வக்³ராஸாய
अधर्मशत्रवेஅத⁴ர்மஶத்ரவே
ब्रह्मज्ञानैकमन्थरायப்³ரஹ்மஜ்ஞானைகமந்த²ராய
अग्रेसरायஅக்³ரேஸராய
तीर्थभूतायதீர்த²பூ⁴தாய
सितभस्मावकुण्ठनायஸிதப⁴ஸ்மாவகுண்ட²னாய
अकुण्ठमेतसेஅகுண்ட²மேதஸே
श्रीकण्ठायஶ்ரீகண்டா²ய
वैकुण्ठपरमप्रियायவைகுண்ட²பரமப்ரியாய
ललाटोज्ज्वलनेत्राब्जाय லலாடோஜ்ஜ்வலநேத்ராப்³ஜாய
तुषारकरशेखरायதுஷாரகரஶேக²ராய
गजासुरशिरश्छेत्रे नम: ३२० க³ஜாஸுரஶிரஶ்சே²த்ரே நம: 320

 
Post a Comment