Pages

Thursday, January 8, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0160_0200



अष्टमूर्तयेஅஷ்டமூர்தயே
दीप्तमूर्तयेதீ³ப்தமூர்தயே
नामोच्चारणमुक्तिदायநாமோச்சாரணமுக்திதா³ய
सहस्रादित्यसङ्काशायஸஹஸ்ராதி³த்யஸங்காஶாய
सदाषोडश वार्षिकायஸதா³ஷோட³ஶ வார்ஷிகாய
दिव्यकेलीसमायुक्तायதி³வ்யகேலீஸமாயுக்தாய
दिव्यमाल्याम्बरावृतायதி³வ்யமால்யாம்ப³ராவ்ருʼதாய
अनर्घरत्नसम्पूर्णायஅனர்க⁴ரத்னஸம்பூர்ணாய
मल्लिकाकुसुमप्रियायமல்லிகாகுஸுமப்ரியாய
तप्तचामी कराकारायதப்தசாமீ கராகாராய
जितदावानलाकृतयेஜிததா³வானலாக்ருʼதயே
निरञ्जनायநிரஞ்ஜனாய
निर्विकारायநிர்விகாராய
निजावासायநிஜாவாஸாய
निराकृतयेநிராக்ருʼதயே
जकद्गुरवेஜகத்³கு³ரவே
जगत्कर्त्रेஜக³த்கர்த்ரே
जकदीशायஜகதீ³ஶாய
जगत्पतयेஜக³த்பதயே
कामहन्त्रे नम: १८० காமஹந்த்ரே நம: 180
काममूर्त्तये नम: காமமூர்த்தயே நம:
कल्याणवृषवाहनायகல்யாணவ்ருʼஷவாஹனாய
गङ्गातरायக³ங்கா³தராய
महादेवायமஹாதே³வாய
दीनबन्धविमोचकायதீ³னப³ந்த⁴விமோசகாய
धूर्जटयेதூ⁴ர்ஜடயே
खण्टपरशवेக²ண்டபரஶவே
सद्गुणायஸத்³கு³ணாய
गिरिजासखायகி³ரிஜாஸகா²ய
अव्ययायஅவ்யயாய
भूतसेनेशायபூ⁴தஸேனேஶாய
पापघ्नायபாபக்⁴னாய
पुण्यदायकायபுண்யதா³யகாய
उपदेष्ट्रेஉபதே³ஷ்ட்ரே
दृडप्राज्ञायத்³ருʼட³ப்ராஜ்ஞாய
रुद्रायருத்³ராய
रोगविनाशनायரோக³வினாஶனாய
नित्यानन्दायநித்யானந்தா³ய
निराधारायநிராதா⁴ராய
हराय नम: २००ஹராய நம: 200

 
Post a Comment