Pages

Friday, January 30, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0761_0800



कवये नम:கவயே நம:
दुःस्वप्ननाशनायது³​:ஸ்வப்ன நாஶனாய
गौरीविलाससदनायகௌ³ரீவிலாஸ ஸத³னாய
पिशाचानुचरावृतायபிஶாசானுசரா வ்ருʼதாய
दक्षिणाप्रेमसन्तुष्टायத³க்ஷிணா ப்ரேம ஸந்துஷ்டாய
दारिद्र्यबडवानलायதா³ரித்³ர்ய ப³ட³வானலாய
अद्भुतानन्तसङ्ग्रामायஅத்³பு⁴தானந்த ஸங்க்³ராமாய
ढक्कावादनतत्परायட⁴க்காவாத³ன தத்பராய
प्राच्यात्मनेப்ராச்யாத்மனே
दक्षिणाकारायத³க்ஷிணாகாராய
प्रतीच्यात्मनेப்ரதீச்யாத்மனே
उत्तराकृतयेஉத்தரா க்ருʼதயே
ऊर्ध्वाद्यन्यदिगाकारायஊர்த்⁴வாத்³யன்யதி³கா³ காராய
मर्मज्ञायமர்மஜ்ஞாய
सर्वशिक्षकायஸர்வ ஶிக்ஷகாய
युगावहायயுகா³வஹாய
युगाधीशायயுகா³தீ⁴ஶாய
युगात्मनेயுகா³த்மனே
युगनायकायயுக³நாயகாய
जङ्गमाय नम: ७८० ஜங்க³மாய நம: 780
स्थावराकाराय नम :ஸ்தா²வரா காராய நம :
कैलासशिखरप्रियायகைலாஸ ஶிக²ர ப்ரியாய
हस्तराजत्पुण्डरीकायஹஸ்தராஜத் புண்ட³ரீகாய
पुण्डरीकनिभेक्षणायபுண்ட³ரீக நிபே⁴க்ஷணாய
लीलाविडम्बितवपुषेலீலாவிட³ம்பி³த வபுஷே
भक्तमानसमण्डितायப⁴க்தமானஸ மண்டி³தாய
बृन्दारकप्रियतमायப்³ருʼந்தா³ரக ப்ரியதமாய
बृन्दारकवरार्चितायப்³ருʼந்தா³ரக வரார்சிதாய
नानाविधानेकरत्नलसत्कुण्डलमण्डितायநானா விதா⁴னேகரத்ன லஸத்குண்ட³ல மண்டி³தாய
निःसीममहिम्नेநி​:ஸீம மஹிம்னே
नित्यालीलाविग्रहरूपधृतेநித்யாலீலா விக்³ரஹ ரூபத்⁴ருʼதே
चन्तनद्रवदिग्धाङ्कायசந்தனத்³ரவ தி³க்³தா⁴ங்காய
चाम्पेयकुसुमार्चितायசாம்பேய குஸுமார்சிதாய
समस्तभक्तसुखदायஸமஸ்த ப⁴க்த ஸுக²தா³ய
परमाणवेபரமாணவே
महाहृरदायமஹா ஹ்ரு'தா³ய
अलौकिकायஅலௌகிகாய
तुष्प्रधर्षायதுஷ்ப்ரத⁴ர்ஷாய
कपिलायகபிலாய
कालकन्धराय नम: ८०० கால கந்த⁴ராய நம: 800

 
Post a Comment