Pages

Thursday, January 29, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0721_0760



बलप्रमथनाय नम:ப³லப்ரமத²னாய நம:
बलायப³லாய
विध्याकरायவித்⁴யாகராய
महाविध्यायமஹாவித்⁴யாய
विध्याविध्याविशारदायவித்⁴யாவித்⁴யா விஶாரதா³ய
वसन्तकृतेவஸந்தக்ருʼதே
वसन्तात्मनेவஸந்தாத்மனே
वसन्तेशायவஸந்தேஶாய
वसन्तदायவஸந்ததா³ய
प्रावृट्कृतेப்ராவ்ருʼட் க்ருʼதே
प्रावृडाकारायப்ராவ்ருʼடா³காராய
प्रावृट्कालप्रवर्तकायப்ராவ்ருʼட்கால ப்ரவர்தகாய
शरन्नाथायஶரன் நாதா²ய
शरत्कालनाशकायஶரத்கால நாஶகாய
शरदाश्रयायஶரதா³ஶ்ரயாய
कुन्दमन्दारपुष्पौघ लसद्वायुनिषेवितायகுந்த³மந்தா³ர புஷ்பௌக⁴ லஸத்³வாயு நிஷேவிதாய
दिव्यदेहप्रभाकूटसन्दिपितदिगन्तरायதி³வ்யதே³ஹ ப்ரபா⁴கூட ஸந்தி³பிததி³ க³ந்தராய
देवासुरगुरुस्तव्यायதே³வாஸுர கு³ருஸ்தவ்யாய
देवासुरनमस्कृतायதே³வாஸுர நமஸ்க்ருʼதாய
वामाङ्गभागविलसच्छ्यामलावीक्षणप्रियाय नम: ७४० வாமாங்க³பா⁴க ³விலஸச்ச்²யாமலா வீக்ஷண ப்ரியாய நம: 740
कीर्त्याधाराय नम:கீர்த்யாதா⁴ராய நம:
कीर्तिकरायகீர்திகராய
कीर्तिहेतवेகீர்திஹேதவே
अहेतुकायஅஹேதுகாய
शरणागतदितार्ति परित्राणपरायणायஶரணாக³த தீ³தார்தி பரித்ராண பராயணாய
महाप्रेतासनासीनायமஹா ப்ரேதாஸனாஸீனாய
जितसर्वपितामहायஜிதஸர்வ பிதாமஹாய
मुक्तादामपरीताङ्कायமுக்தாதா³ம பரீதாங்காய
नानागानविशारतायநானா கா³ன விஶாரதாய
विष्णुब्रह्मादिवद्याङ्घ्रयेவிஷ்ணுப்³ரஹ்மாதி³ வத்³யாங்க்⁴ரயே
नानादेशैकनायकायநானா தே³ஶைக நாயகாய
धीरोदात्तायதீ⁴ரோதா³த்தாய
महाधीरायமஹாதீ⁴ராய
धैर्यदायதை⁴ர்யதா³ய
धैर्यवर्धकाय தை⁴ர்ய வர்த⁴காய
विज्ञानमयायவிஜ்ஞானமயாய
आनन्दमयायஆனந்த³மயாய
प्राणमयायப்ராணமயாய
अन्नदायஅன்னதா³ய
भवाब्धितरणोपायाय नम: ७६० ப⁴வாப்³தி⁴ தரணோபாயாய நம: 760

 
Post a Comment