Pages

Friday, January 9, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0200_0240



देवशिखामणये नम:தே³வ ஶிகா²மணயே நம:
प्रणतार्तिहरायப்ரணதார்தி ஹராய
सोमायஸோமாய
सान्द्रानन्दायஸாந்த்³ரானந்தா³ய
महामतयेமஹாமதயே
आश्चर्यवैभवायஆஶ்சர்ய வைப⁴வாய
देवायதே³வாய
सम्सारार्णवतारकायஸம்ஸாரார்ணவ தாரகாய
यज्ञेशायயஜ்ஞேஶாய
राजराजेशायராஜ ராஜேஶாய
भस्मरुद्राक्षलाञ्छनायப⁴ஸ்ம ருத்³ராக்ஷ லாஞ்ச²னாய
अनन्तायஅனந்தாய
तारकायதாரகாய
स्थाणवेஸ்தா²ணவே
सर्वविद्येश्वरायஸர்வ வித்³யேஶ்வராய
हरयेஹரயே
विश्वरूपायவிஶ்வ ரூபாய
विरूपाक्षायவிரூபாக்ஷாய
प्रभवेப்ரப⁴வே
परिवृढाय नम: २२० பரிவ்ருʼடா⁴ய நம: 220
दृढाय नम:த்³ருʼடா⁴ய நம:
भव्यायப⁴வ்யாய
जितारिषड्वर्गायஜிதாரி ஷட்³வர்கா³ய
महोदारायமஹோதா³ராய
विषाशनायவிஷாஶனாய
सुकीर्तयेஸுகீர்தயே
आदिपुरुषायஆதி³புருஷாய
जरामरणवर्जितायஜராமரண வர்ஜிதாய
प्रमाणभूतायப்ரமாண பூ⁴தாய
दुर्ज्ञेयायது³ர்ஜ்ஞேயாய
पुण्यायபுண்யாய
परपुरञ्जयायபரபுரஞ்ஜயாய
गुणाकरायகு³ணாகராய
गुणश्रेष्ठायகு³ணஶ்ரேஷ்டா²ய
सच्चिदानन्दविग्रहायஸச்சிதா³னந்த³ விக்³ரஹாய
सुखदायஸுக²தா³ய
कारणायகாரணாய
कर्त्रेகர்த்ரே
भवबन्धविमोचकायப⁴வப³ந்த⁴ விமோசகாய
अनिर्विण्णाय नम: २४० அனிர்விண்ணாய நம: 240

 
Post a Comment