Pages

Wednesday, January 7, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0121_0160




नृत्तगीतकलाभिज्ञाय नम:ந்ருʼத்த கீ³த கலாபி⁴ஜ்ஞாய நம:
कर्मविदेகர்மவிதே³
कर्ममोचकायகர்ம மோசகாய
कर्मसाक्षिणेகர்ம ஸாக்ஷிணே
कर्ममयायகர்ம மயாய
कर्मणाम्फलप्रदायகர்மணாம் ப²லப்ரதா³ய
ज्ञानदात्रेஜ்ஞான தா³த்ரே
सदाचारायஸதா³சாராய
सर्वोपद्रवमोचकायஸர்வோபத்³ரவ மோசகாய
अनाथनाथायஅனாத² நாதா²ய
भगवतेப⁴க³வதே
आश्रितामरपादपायஆஶ்ரிதாமரபாத³பாய
वरप्रदायவரப்ரதா³ய
प्रकाशात्मनेப்ரகாஶாத்மனே
सर्वभूतहिते रतायஸர்வ பூ⁴தஹிதே ரதாய
व्याघ्रचर्मासनासीनायவ்யாக்⁴ர சர்மாஸனாஸீனாய
आदिकर्त्रेஆதி³கர்த்ரே
महेश्वरायமஹேஶ்வராய
सुविक्रमायஸுவிக்ரமாய
सर्वगताय नम:१४० ஸர்வ க³தாய நம:140
विशिष्टजनवत्सलाय नम:விஶிஷ்டஜன வத்ஸலாய நம:
चिन्ताशोकप्रशमनायசிந்தாஶோக ப்ரஶமனாய
जकदानन्दकारकायஜகதா³னந்த³ காரகாய
रश्मिमतेரஶ்மிமதே
भुवनेशायபு⁴வனேஶாய
देवासुरसुपूजितायதே³வாஸுர ஸுபூஜிதாய
मृत्युञ्जयायம்ருʼத்யுஞ்ஜயாய
व्योमकेशायவ்யோமகேஶாய
षट्त्रिम्शत्तत्वसङ्ग्रहायஷட்த்ரிம்ஶத் தத்வ ஸங்க்³ரஹாய
अज्ञातसम्भवायஅஜ்ஞாத ஸம்ப⁴வாய
भिक्षवेபி⁴க்ஷவே
अद्वितीयायஅத்³விதீயாய
दिगंबरायதி³க³ம்ப³ராய
समस्तदेवतामूर्तयेஸமஸ்த தே³வதா மூர்தயே
सोमसूर्याग्निलोचनायஸோம ஸூர்யாக்³னி லோசனாய
सर्वसाम्राज्यनिपुणायஸர்வ ஸாம்ராஜ்ய நிபுணாய
धर्ममार्गप्रवर्त्तकायத⁴ர்ம மார்க³ ப்ரவர்த்தகாய
विश्वाधिकायவிஶ்வாதி⁴காய
पशुपतयेபஶுபதயே
पशुपाशविमोचकाय नम: १६० பஶுபாஶ விமோசகாய நம: 160

 
Post a Comment