Pages

Friday, January 16, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0361_0400



देवादिदेवाय नम:தே³வாதி³ தே³வாய நம:
देवर्षयेதே³வர்ஷயே
देवासुरवरप्रदायதே³வாஸுர வரப்ரதா³ய
सर्वदेवमयायஸர்வதே³வ மயாய
अचिन्त्यायஅசிந்த்யாய
देवात्मनेதே³வாத்மனே
आत्मसम्भवायஆத்ம ஸம்ப⁴வாய
निर्लेपायநிர்லேபாய
निष्प्रपञ्चात्मनेநிஷ்ப்ரபஞ்சாத்மனே
निर्विग्नायநிர்விக்³னாய
विघ्ननाशकायவிக்⁴ன நாஶகாய
एकज्योतिषेஏக ஜ்யோதிஷே
निरातङ्कायநிராதங்காய
व्याप्तमूर्त्तयेவ்யாப்த மூர்த்தயே
अनाकुलायஅனாகுலாய
निरवद्यपदोपाध्येநிரவத்³யபதோ³பாத்⁴யே
विद्याराशयेவித்³யாராஶயே
अनुत्तमायஅனுத்தமாய
नित्यानन्दायநித்யானந்தா³ய
सुराध्यक्षाय नम: ३८० ஸுராத்⁴யக்ஷாய நம: 380
नि:सङ्कल्पाय नम:நி:ஸங்கல்பாய நம:
निरञ्जनायநிரஞ்ஜனாய
निष्कलङ्कायநிஷ்கலங்காய
निराकारायநிராகாராய
निष्प्रपञ्चायநிஷ்ப்ரபஞ்சாய
निरामयायநிராமயாய
विध्याधरायவித்⁴யா த⁴ராய
वियत्केशायவியத்கேஶாய
मार्कण्डेयवरप्रदायமார்கண்டே³ய வரப்ரதா³ய
भैरवायபை⁴ரவாய
भैरवीनाथायபை⁴ரவீநாதா²ய
कामदायகாமதா³ய
कमलासनायகமலாஸனாய
वेदवेद्यायவேத³வேத்³யாய
सुरानन्दायஸுரானந்தா³ய
लसज्ज्योतिषेலஸஜ்ஜ்யோதிஷே
प्रभाकरायப்ரபா⁴கராய
चूडामणयेசூடா³மணயே
सुराधिशायஸுராதி⁴ஶாய
यज्ञगेयाय नम: ४०० யஜ்ஞகே³யாய நம: 400

 
Post a Comment