Pages

Monday, January 26, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0601_0640




यज्ञपुरुषाय नम:யஜ்ஞ புருஷாய நம:
सृष्टिस्थित्यन्तकारणायஸ்ருʼஷ்டி ஸ்தி²த்யந்த காரணாய
परहम्सैकजिज्ञास्यायபரஹம்ஸைக ஜிஜ்ஞாஸ்யாய
स्वप्रकाशस्वरूपवतेஸ்வப்ரகாஶ ஸ்வரூபவதே
मुनिमृग्यायமுனி ம்ருʼக்³யாய
देवमृग्यायதே³வ ம்ருʼக்³யாய
मृगहस्तायம்ருʼக³ ஹஸ்தாய
मृगेश्वरायம்ருʼகே³ஶ்வராய
मृगेन्द्रचर्मवसनायம்ருʼகே³ந்த்³ர சர்ம வஸனாய
नरसिम्हनिपातनायநரஸிம்ஹனிபாதனாய
मुनिवन्द्यायமுனிவந்த்³யாய
मुनिश्रेष्ठायமுனிஶ்ரேஷ்டா²ய
मुनिबृन्दनिषेवितायமுனிப்³ருʼந்த³ நிஷேவிதாய
तुष्टमृत्यवेதுஷ்ட ம்ருʼத்யவே
अदुष्टेहायஅது³ஷ்டேஹாய
मृत्युघ्नेம்ருʼத்யுக்⁴னே
मृत्युपूजितायம்ருʼத்யு பூஜிதாய
अव्यक्तायஅவ்யக்தாய
अम्पुजजन्मादिकोटिकोटिसुपूजितायஅம்புஜ ஜன்மாதி³ கோடி கோடி ஸுபூஜிதாய
लिङ्गमूर्त्तये नम: ६२० லிங்க³மூர்த்தயே நம: 620
अलिङ्गात्मने नम:அலிங்கா³த்மனே நம:
लिङ्गात्मनेலிங்கா³த்மனே
लिङ्गविग्रहायலிங்க³விக்³ரஹாய
यजुर्मूर्तयेயஜுர்மூர்தயே
साममूर्तयेஸாமமூர்தயே
ऋङ्मूर्तयेருʼங்மூர்தயே
मूर्त्तिवर्जितायமூர்த்தி வர்ஜிதாய
विश्वेशायவிஶ்வேஶாய
गजचर्मैकचेलाञ्चितकटीतटायக³ஜ சர்மைகசேலாஞ்சித கடீதடாய
पावनान्तेवसद्योगिजनसार्थसुधाकरायபாவனாந்தேவ ஸத்³யோகி³ஜன ஸார்த² ஸுதா⁴ கராய
अनन्तसोमसूर्याघ्निमण्डलप्रतिमप्रभायஅனந்த ஸோம ஸூர்யாக்⁴னி மண்ட³ல ப்ரதிம ப்ரபா⁴ய
चिन्ताशोकप्रशमनायசிந்தாஶோக ப்ரஶமனாய
सर्वविध्याविशारदायஸர்வவித்⁴யாவிஶாரதா³ய
भक्तविज्ञप्तिसंधात्रेப⁴க்த விஜ்ஞப்தி ஸந்தா⁴த்ரே
कर्त्रेகர்த்ரே
गिरिवराकृतयेகி³ரிவரா க்ருʼதயே
ज्ञानप्रदायஜ்ஞானப்ரதா³ய
मनोवासायமனோவாஸாய
क्षेम्यायக்ஷேம்யாய
मोहविनाशनाय नम: ६४० மோஹ வினாஶனாய நம: 640

 
Post a Comment