Pages

Thursday, January 22, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0521_0560



श्रीधराय नम :ஶ்ரீத⁴ராய நம :
सर्वसिद्धेशायஸர்வஸித்³தே⁴ஶாய
विश्वनाथायவிஶ்வநாதா²ய
दयानिधयेத³யாநித⁴யே
अन्तर्मुखायஅந்தர்முகா²ய
बहिर्दृष्टयेப³ஹிர்த்³ருʼஷ்டயே
सिद्धवेषमनोहरायஸித்³த⁴வேஷமனோஹராய
कृत्तिवाससेக்ருʼத்திவாஸஸே
कृपासिन्धवेக்ருʼபாஸிந்த⁴வே
मन्द्रसिद्धायமந்த்³ரஸித்³தா⁴ய
मतिप्रदायமதிப்ரதா³ய
महोत्क्रुष्टायமஹோத்க்ருஷ்டாய
पुण्यकरायபுண்யகராய
जगत्साक्षिणेஜக³த்ஸாக்ஷிணே
सदाशिवायஸதா³ஶிவாய
महाक्रतवेமஹாக்ரதவே
महायज्वनेமஹாயஜ்வனே
विश्वकर्मणेவிஶ்வகர்மணே
तपोनिधयेதபோநித⁴யே
छन्दोमयाय नम: ५४० ச²ந்தோ³மயாய நம: 540
महाज्ञानिने नम:மஹாஜ்ஞானினே நம:
सर्वज्ञायஸர்வஜ்ஞாய
देववन्दितायதே³வவந்தி³தாய
सार्वभौमायஸார்வபௌ⁴மாய
सदानन्दायஸதா³னந்தா³ய
करुणामृतवारिधयेகருணாம்ருʼதவாரித⁴யே
कालकालायகாலகாலாய
कलिध्वम्सिनेகலித்⁴வம்ஸினே
जरामरणनाशकायஜராமரணநாஶகாய
शितिकण्ठायஶிதிகண்டா²ய
चिदानन्दायசிதா³னந்தா³ய
योगिनीगणसेवितायயோகி³னீக³ணஸேவிதாய
चण्डीशायசண்டீ³ஶாய
शुकसम्वेद्यायஶுகஸம்வேத்³யாய
पुण्यश्लोकायபுண்யஶ்லோகாய
दिवस्पतयेதி³வஸ்பதயே
स्थायिनेஸ்தா²யினே
सकलतत्वात्मनेஸகலதத்வாத்மனே
सदासेवकवर्धनायஸதா³ஸேவகவர்த⁴னாய
रोहिताश्वाय नम: ५६० ரோஹிதாஶ்வாய நம: 560

 
Post a Comment