Pages

Wednesday, January 21, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0481_0520




अकुब्जाय नम:அகுப்³ஜாய நம:
धार्मिकायதா⁴ர்மிகாய
भक्तवत्सलायப⁴க்தவத்ஸலாய
अप्यासातिशयज्ञेयायஅப்யாஸாதிஶயஜ்ஞேயாய
चन्द्रमौलयेசந்த்³ரமௌலயே
कलाधरायகலாத⁴ராய
महाबलायமஹாப³லாய
महावीर्यायமஹாவீர்யாய
विभवेவிப⁴வே
श्रीशायஶ்ரீஶாய
शुभप्रदायஶுப⁴ப்ரதா³ய
सिद्धायஸித்³தா⁴ய
पुराणपुरुषायபுராணபுருஷாய
रणमण्डलभैरवायரணமண்ட³லபை⁴ரவாய
सद्योजातायஸத்³யோஜாதாய
वटारण्यवासिनेவடாரண்யவாஸினே
पुरुषवल्लभायபுருஷவல்லபா⁴ய
हरिकेशायஹரிகேஶாய
महात्रात्रेமஹாத்ராத்ரே
नीलग्रीवाय नम: ५०० நீலக்³ரீவாய நம: 500
सुमङ्गलाय नम:ஸுமங்க³லாய நம:
हिरण्यबाहवेஹிரண்யபா³ஹவே
तीक्ष्णाम्शवेதீக்ஷ்ணாம்ஶவே
कामेशायகாமேஶாய
सोमविग्रहायஸோமவிக்³ரஹாய
सर्वात्मनेஸர்வாத்மனே
सर्वकर्त्रेஸர்வகர்த்ரே
ताण्डवायதாண்ட³வாய
मुण्डमालिकायமுண்ட³மாலிகாய
अग्रगण्यायஅக்³ரக³ண்யாய
सुगंभीरायஸுக³ம்பீ⁴ராய
देशिकायதே³ஶிகாய
वैदिकोत्तमायவைதி³கோத்தமாய
प्रसन्नदेवायப்ரஸன்னதே³வாய
वागीशायவாகீ³ஶாய
चिन्तातिमिरभास्करायசிந்தாதிமிரபா⁴ஸ்கராய
गौरीपतयेகௌ³ரீபதயே
तुङ्गमौलयेதுங்க³மௌலயே
मखराजायமக²ராஜாய
महाकवये नम: ५२० மஹாகவயே நம: 520

 
Post a Comment