Pages

Tuesday, February 3, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி 0841_0880



अनन्तानन्दसुखदाय नम:அனந்தானந்த³ ஸுக²தா³ய நம:
नन्दनायநந்த³னாய
श्रीनिकेतनायஶ்ரீநிகேதனாய
अमृताब्धिकृतावासायஅம்ருʼதாப்³தி⁴ க்ருʼதாவாஸாய
नित्यक्लीबायநித்ய க்லீபா³ய
निरामयायநிராமயாய
अनपायायஅனபாயாய
अनन्तदृष्टयेஅனந்த த்³ருʼஷ்டயே
अप्रमेयायஅப்ரமேயாய
अजरायஅஜராய
अमराय அமராய
तमोमोहप्रतिहतयेதமோமோஹ ப்ரதிஹதயே
अप्रतर्क्यायஅப்ரதர்க்யாய
अमृतायஅம்ருʼதாய
अक्षरायஅக்ஷராய
अमोघबुद्धयेஅமோக⁴பு³த்³த⁴யே
आधारायஆதா⁴ராய
आधाराधेयवर्जितायஆதா⁴ராதே⁴ய வர்ஜிதாய
ईषणात्रयनिर्मुक्तायஈஷணாத்ரய நிர்முக்தாய
इहामुत्रविवर्जिताय नम: ८६० இஹாமுத்ர விவர்ஜிதாய நம: 860
ऋग्यजु:सामनयनाय नम:ருʼக்³யஜு:ஸாம நயனாய நம:
बुद्धिसिद्धिसमृद्धिदायபு³த்³தி⁴ஸித்³தி⁴ ஸம்ருʼத்³தி⁴தா³ய
औदार्यनिधयेஔதா³ர்ய நித⁴யே
आपूर्णायஆபூர்ணாய
ऐहिकामुष्मिकप्रदाय ஐஹிகாமுஷ்மிக ப்ரதா³ய
शुद्धसन्मात्रसम्विदधि स्वरूपसुखविग्रहाय ஶுத்³த⁴ஸன்மாத்ர ஸம்வித³தி⁴ ஸ்வரூபஸுக² விக்³ரஹாய
दर्शनप्रथमाभासायத³ர்ஶன ப்ரத²மாபா⁴ஸாய
दृष्टिदृश्यविवर्जितायத்³ருʼஷ்டித்³ருʼஶ்ய விவர்ஜிதாய
अग्रगण्यायஅக்³ரக³ண்யாய
अचिन्त्यरूपायஅசிந்த்யரூபாய
कलिकल्मषनाशनायகலிகல்மஷ நாஶனாய
विमर्शरूपायவிமர்ஶரூபாய
विमलायவிமலாய
नित्यरूपायநித்யரூபாய
निराश्रयायநிராஶ்ரயாய
नित्यशुद्धायநித்யஶுத்³தா⁴ய
नित्यबुद्धायநித்யபு³த்³தா⁴ய
नित्यामुक्तायநித்யாமுக்தாய
अपराकृतायஅபராக்ருʼதாய
मैत्र्यादिवासनालभ्याय नम: ८८० மைத்ர்யாதி³வாஸனா லப்⁴யாய நம: 880

 
Post a Comment