Pages

Monday, February 2, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0801_0840



कर्पूरगौरायகர்பூர கௌ³ராய
कुशलायகுஶலாய
सत्यसन्धायஸத்யஸந்தா⁴ய
जितेन्द्रियायஜிதேந்த்³ரியாய
शाश्वतैश्वर्यविभवायஶாஶ்வதைஶ்வர்ய விப⁴வாய
पोषकायபோஷகாய
सुसमाहितायஸுஸமாஹிதாய
महर्षिनाथितायமஹர்ஷி நாதி²தாய
ब्रह्मयोनयेப்³ரஹ்ம யோனயே
सर्वोत्तमोत्तमायஸர்வோத்தமோத்தமாய
भूपूमिभारार्तिसम्हर्त्रेபூ⁴பூமிபா⁴ரார்தி ஸம்ஹர்த்ரே
षटूर्मिरहितायஷடூர்மி ரஹிதாய
मृडायம்ருʼடா³ய
त्रिविष्टपेश्वरायத்ரிவிஷ்டபேஶ்வராய
सर्वह्रुतयाम्बुजमध्यगायஸர்வஹ்ருதயாம்பு³ஜ மத்⁴யகா³ய
सहस्रदलपद्मस्थाय ஸஹஸ்ரத³ல பத்³மஸ்தா²ய
सर्ववर्णोपशोभितायஸர்வவர்ணோப ஶோபி⁴தாய
पुण्यमूर्तयेபுண்யமூர்தயே
पुण्यलभ्यायபுண்யலப்⁴யாய
पुण्यश्रवणकीर्तनाय नम: ८२० புண்யஶ்ரவண கீர்தனாய நம: 820
सूर्यमण्डलमध्यस्थाय नम:ஸூர்யமண்ட³ல மத்⁴யஸ்தா²ய நம:
चन्द्रमण्डलमध्यगाय नम:சந்த்³ரமண்ட³லம த்⁴யகா³ய நம:
सद्भक्तध्याननिगलायஸத்³ப⁴க்தத்⁴யான நிக³லாய
शरणागतपालकायஶரணாக³த பாலகாய
श्वेतातपत्ररुचिरायஶ்வேதாதபத்ர ருசிராய
श्वेतचामरवीजितायஶ்வேதசாமர வீஜிதாய
सर्वावयसम्पूर्णायஸர்வாவய ஸம்பூர்ணாய
सर्वलक्षणलक्षितायஸர்வலக்ஷண லக்ஷிதாய
सर्वमङ्गलमाङ्गल्यायஸர்வமங்க³ல மாங்க³ல்யாய
सर्वकारणकारकायஸர்வகாரண காரகாய
आमोदायஆமோதா³ய
मोदजनकायமோத³ஜனகாய
सर्पराजोत्तरीयकायஸர்ப ராஜோத்தரீயகாய
कपालिनेகபாலினே
कोविदायகோவிதா³ய
सिद्धकान्तिसम्वलिताननायஸித்³த⁴காந்தி ஸம்வலிதானனாய
सर्वसद्गुसम्सेव्यायஸர்வஸத்³கு³ஸம் ஸேவ்யாய
दिव्यचन्दनचर्चितायதி³வ்ய சந்த³னசர்சிதாய
विलासिनीकृतोल्लासायவிலாஸினீ க்ருʼதோல்லாஸாய
इच्छाशक्तिनिषेविताय नम: ८४० இச்சா²ஶக்தி நிஷேவிதாய நம: 840

 
Post a Comment