Pages

Thursday, February 5, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0921_0960



बाणार्चिताङ्ग्रये नम: பா³ணார்சிதாங்க்³ரயே நம:
बहुदायப³ஹுதா³ய
बालकेलिकुतूहलिनेபா³லகேலி குதூஹலினே
ब्रह्मरूपिणेப்³ரஹ்ம ரூபிணே
ब्रह्मपदायப்³ரஹ்மபதா³ய
ब्रह्मविदेப்ரஹ்மவிதே
ब्राह्मणप्रियायப்³ராஹ்மண ப்ரியாய
भ्रूक्षेपदत्तलक्ष्मीकायப்⁴ரூக்ஷேபத³த்த லக்ஷ்மீகாய
भ्रूमध्यध्यानलक्षितायப்⁴ரூமத்⁴ய த்⁴யான லக்ஷிதாய
यशस्करायயஶஸ்கராய
रत्नगर्भायரத்னக³ர்பா⁴ய
महाराज्यसुखप्रदायமஹாராஜ்ய ஸுக²ப்ரதா³ய
शब्दब्रह्मणेஶப்³த³ ப்³ரஹ்மணே
शमप्राप्यायஶம ப்ராப்யாய
लाभकृतेலாப⁴க்ருʼதே
लोकविश्रुतायலோக விஶ்ருதாய
शास्त्रेஶாஸ்த்ரே
शिवाद्रिनिलयायஶிவாத்³ரி நிலயாய
शरण्यायஶரண்யாய
याजकप्रियाय नम: ९४० யாஜக ப்ரியாய நம: 940
सम्सारवैद्याय नम :ஸம்ஸார வைத்³யாய நம :
सर्वज्ञायஸர்வஜ்ஞாய
सभेषजविभेषजायஸபே⁴ஷஜ விபே⁴ஷஜாய
मनोवाचोभिरग्राह्यायமனோ வாசோபி⁴ரக்³ராஹ்யாய
पञ्चकोशविलक्षणायபஞ்சகோஶ விலக்ஷணாய
अवस्थात्रयनिर्मुक्तायஅவஸ்தா²த்ரய நிர்முக்தாய
अवस्थासाक्षितुर्यकायஅவஸ்தா²ஸாக்ஷி துர்யகாய
पञ्चभूतादिदूरस्थायபஞ்சபூ⁴தாதி³ தூ³ரஸ்தா²ய
प्रत्यगेकरसायப்ரத்யகே³க ரஸாய
अव्ययायஅவ்யயாய
षट्चक्रान्तर्गतोल्लासिनेஷட் சக்ராந்தர்க³தோல்லாஸினே
षट्विकारविवर्जितायஷட்விகார விவர்ஜிதாய
विज्ञानघनसम्पूर्णायவிஜ்ஞானக⁴ன ஸம்பூர்ணாய
वीणावादनतत्परायவீணாவாத³ன தத்பராய
नीहाराकारगौराङ्गायநீஹாராகார கௌ³ராங்கா³ய
महालावण्यवारिधयेமஹாலாவண்ய வாரித⁴யே
पराभिचारशमनायபராபி⁴சா ரஶமனாய
षडध्वोपरिसंस्थितायஷட³த்⁴வோபரி ஸம்ʼஸ்தி²தாய
सुषुम्नामार्गसञ्चारिणेஸுஷும்னா மார்க³ ஸஞ்சாரிணே
बिसतन्तुनिभाकृतये नम: ९६० பி³ஸ தந்துனிபா⁴க்ருʼதயே நம: 960

 
Post a Comment