Pages

Friday, February 6, 2015

ஸ்ரீ தக்ஷிணா மூர்த்தி ஸஹஸ்ர நாமாவளி - 0961_1000




पिनाकिने नम:பினாகினே நம:
लिङ्गरूपश्रियेலிங்க³ரூப ஶ்ரியே
मङ्गलावयवोज्ज्वलायமங்க³லாவயவோஜ் ஜ்வலாய
क्षेत्राधिपायக்ஷேத்ராதி⁴பாய
सुसम्वेद्यायஸுஸம்வேத்³யாய
श्रीप्रदायஶ்ரீப்ரதா³ய
विभवप्रदायவிப⁴வ ப்ரதா³ய
सर्ववश्यकरायஸர்வ வஶ்யகராய
सर्वदोषघ्नेஸர்வ தோ³ஷக்⁴னே
पुत्रपौत्रदायபுத்ரபௌத்ரதா³ய
तैलदीपप्रियायதைலதீ³ப ப்ரியாய
तैलपक्वान्नप्रीतमानसायதைலபக்வான்ன ப்ரீதமானஸாய
तैलाभिषेकसन्तुष्टायதைலாபி⁴ஷேக ஸந்துஷ்டாய
तिलभक्षणतत्परायதிலப⁴க்ஷண தத்பராய
आपादकणिकामुक्ता भूषाशतमनोहराय ஆபாத³கணிகா முக்தா பூ⁴ஷாஶத மனோஹராய
शाणोल्लीढमणिश्रेणी रम्याङ्घ्रिनखमण्डलायஶாணோல்லீட⁴மணி ஶ்ரேணீ ரம்யாங்க்⁴ரி நக²மண்ட³லாய
मणिमञ्जीरकिरण किञ्जल्कित पदाम्बुजायமணிமஞ்ஜீர கிரண கிஞ்ஜல்கித பதா³ம்பு³ஜாய
अपस्मारोपरिन्यस्त सव्यपादसरोरुहायஅபஸ்மாரோபரின்யஸ்த ஸவ்ய பாத³ ஸரோருஹாய
कन्दर्पतूणाभजङ्कायகந்த³ர்பதூணாப⁴ ஜங்காய
गुल्फोदञ्चितनूपुराय नम: ९८० கு³ல்போ²த³ஞ்சி தனூபுராய நம: 980
करिहस्तोपमेयोरवे नम :கரிஹஸ்தோபமேயோரவே நம :
आदर्शोज्ज्वलजानुभृतेஆத³ர்ஶோஜ் ஜ்வலஜானு ப்⁴ருʼதே
विशङ्कटकटिन्यस्तवाचालमणिमेखलायவிஶங்கட கடின்யஸ்த வாசால மணி மேக²லாய
आवर्तनाभिरोमालिवलिमत्पल्लवोदरायஆவர்தனாபி⁴ரோமாலி வலிமத் பல்லவோத³ராய
मुक्ताहार लसत्तुङ्ग विपुलोरस्करञ्चितायமுக்தாஹார லஸத்துங்க³ விபுலோரஸ்கரஞ்சிதாய
वीरासनसमासीनायவீராஸன ஸமாஸீனாய
वीणापुस्तोल्लसत्करायவீணாபுஸ்தோல்ல ஸத்கராய
अक्षमालालसत्पाणयेஅக்ஷமாலால ஸத்பாணயே
चिन्मुद्रितकराम्बुजायசின்முத்³ரித கராம்பு³ஜாய
माणिक्यकङ्कणोल्लासि कराम्बुजविराजितायமாணிக்ய கங்கணோல்லாஸி கராம்பு³ஜ விராஜிதாய
अनर्घरत्नग्रैवेयविलसत्कम्बुकन्धरायஅனர்க⁴ரத்ன க்³ரைவேய விலஸத் கம்பு³ கந்த⁴ராய
अनाकलितसादृश्यचिपुकश्रीविराजितायஅனாகலித ஸாத்³ருʼஶ்ய சிபுக ஶ்ரீவிராஜிதாய
मुग्धस्मितपरीपाकप्रकाशितरदाङ्कुरायமுக்³த⁴ஸ்மித பரீபாக ப்ரகாஶித ரதா³ங்குராய
चारुचाम्पेयपुष्पाभनासिकापुटरञ्जितायசாருசாம்பேய புஷ்பாப⁴ நாஸிகாபுட ரஞ்ஜிதாய
वरवज्रशिलातर्शपरिभाविकपोलभ्रुवेவரவஜ்ர ஶிலாதர்ஶ பரிபா⁴விகபோல ப்⁴ருவே
कर्णद्वयोल्लसद्दिव्यमणिकुण्डलमण्डितायகர்ணத்³வயோல்லஸத்³ தி³வ்ய மணி குண்ட³ல மண்டி³தாய
करुणालहरीपूर्णकर्णान्तायतलोचनायகருணால ஹரீபூர்ண கர்ணாந்தாயதலோசனாய
अर्धचन्द्राभनिटिलपाटीरतिलकोज्ज्वलायஅர்த⁴சந்த்³ராப⁴னிடில பாடீர திலகோஜ் ஜ்வலாய
चारुचामीकराकारजटाचर्चितचन्दनायசாருசாமீகராகார ஜடாசர்சித சந்த³னாய
कैलासशिखरस्पर्धिकमनीयनिजाकृतये नम:१००० கைலாஸஶிக²ர ஸ்பர்தி⁴ கமனீய நிஜாக்ருʼதயே நம:1000

- நிறைந்தது!-
 
Post a Comment