Pages

Tuesday, February 11, 2014

ஶிவன் -1561 - 1600



किंशिलाय கிம்ʼஶிலாய
कुशचूडामणये குஶசூடா³மணயே
कुशलाय குஶலாய
कुशलागमाय குஶலாக³மாய
कृशानवे க்ருʼஶானவே
कृशानुरेतसे க்ருʼஶானுரேதஸே
केशवाय கேஶவாய
केशव ब्रह्म संग्रामवारकाय கேஶவ ப்³ரஹ்ம ஸங்க்³ராமவாரகாய
केशव सेविताय கேஶவ ஸேவிதாய
कौशिक दीक्षा गुरुवर्गस्त्यादि दीक्षागुरु भूतोर्ध्व वदनाय கௌஶிக தீ³க்ஷா கு³ரு வர்க³ஸ்த்யாதி³ தீ³க்ஷா கு³ரு பூ⁴தோர்த்⁴வ வத³னாய
कौशिकाय கௌஶிகாய
कौशिक दीक्षागुरु भूत पश्चिम वदनाय கௌஶிக தீ³க்ஷாகு³ரு பூ⁴த பஶ்சிம வத³னாய
कौशिक संप्रदायज्ञाय கௌஶிக ஸம்ப்ரதா³யஜ்ஞாய
कौशाय கௌஶாய
काष्ठानां प्रभवे காஷ்டா²னாம்ʼ ப்ரப⁴வே
क्लिष्ट भक्तेष्टदायिने க்லிஷ்ட ப⁴க்தேஷ்டதா³யினே
कृष्णाय க்ருʼஷ்ணாய
कृष्ण पिङ्गलाय க்ருʼஷ்ண பிங்க³லாய
कृष्ण वर्णाय க்ருʼஷ்ண வர்ணாய
कृष्ण वर्मिणे - १५८०க்ருʼஷ்ண வர்மிணே - 1580
कृष्णस्य जयदात्रे க்ருʼஷ்ணஸ்ய ஜயதா³த்ரே
कृषणानन्द स्वरूपिणे க்ருʼஷணானந்த³ ஸ்வரூபிணே
कृष्ण चर्मधराय க்ருʼஷ்ண சர்மத⁴ராய
कृष्ण कुञ्चित मूर्धजाय க்ருʼஷ்ண குஞ்சித மூர்த⁴ஜாய
कृष्णाजिनोत्तरीयाय க்ருʼஷ்ணாஜினோத்தரீயாய
कृष्णाभिरताय க்ருʼஷ்ணாபி⁴ரதாய
कस्तूरी विसलत्फालाय கஸ்தூரீ விஸலத்பா²லாய
कस्तूरी तिलकाय கஸ்தூரீ திலகாய
कुसुमामोदाय குஸுமாமோதா³ய
कुसुमाष्टकधराय குஸுமாஷ்டகத⁴ராய
काहलिने காஹலினே
कक्षीशाय கக்ஷீஶாய
कक्षाणां पतये கக்ஷாணாம்ʼ பதயே
कक्ष्याय கக்ஷ்யாய
कक्ष्य बन्धाप्तसुकरकटीतट विराजिताय கக்ஷ்ய ப³ந்தா⁴ப்த ஸுகர கடீதட விராஜிதாய
कांक्षितार्थ सुरद्रुमाय காங்க்ஷிதார்த² ஸுர த்³ருமாய
कुक्षिस्था शेषभुवनाय नम: - १५९७குக்ஷிஸ்தா² ஶேஷ பு⁴வனாய நம: - 1597
खकारस्य गरुडो देवता | पापविनाशने विनियोग: க²காரஸ்ய க³ருடோ³ தே³வதா | பாப விநாஶனே வினியோக³:
खकाराय नम: க²காராய நம:
खगाय க²கா³ய
खगेश्वराय नम: - १६०० க²கே³ஶ்வராய நம: - 1600

Post a Comment