Pages

Wednesday, February 26, 2014

ஶிவன் 2081_2120




चन्द्रकलावतंसाय नमःசந்த்³ரகலாவதம்ʼஸாய நம​:
चन्द्रार्धकृतशेखरायசந்த்³ரார்த⁴க்ருʼதஶேக²ராய
चन्द्रावयवलक्षणायசந்த்³ராவயவலக்ஷணாய
चन्द्रज्ञानागमवक्षसेசந்த்³ரஜ்ஞானாக³மவக்ஷஸே
चन्द्रात्मनेசந்த்³ராத்மனே
चन्द्रिकाधाररूपिणेசந்த்³ரிகாதா⁴ரரூபிணே
चन्दक्षिणकर्णभूषणायசந்த³க்ஷிணகர்ணபூ⁴ஷணாய
चन्द्राङ्कितायசந்த்³ராங்கிதாய
चिदात्मकायசிதா³த்மகாய
चितानन्दमयायசிதானந்த³மயாய
चिदात्मनेசிதா³த்மனே
चित्विग्रहधरायசித்விக்³ரஹத⁴ராய
चिताभासायசிதாபா⁴ஸாய
चिन्मात्रायசின்மாத்ராய
चिन्मयायசின்மயாய
चिन्मुद्रितकरायசின்முத்³ரித கராய
चमूस्तम्भनायசமூஸ்தம்⁴ப⁴னாய
चामीकरमहाशैलकार्मुकायசாமீகரமஹாஶைலகார்முகாய
चामुण्डाजनकायசாமுண்டா³ஜனகாய
चार्मिणे नमः -२१००சார்மிணே நம​: -2100
चराचरात्मने नमःசராசராத்மனே நம​:
चरायசராய
चराचरस्थूलसूक्ष्मकल्पकायசராசரஸ்தூ²லஸூக்ஷ்மகல்பகாய
चर्माङ्कुशधरायசர்மாங்குஶத⁴ராய
चर्मविभवधारिणेசர்மவிப⁴வதா⁴ரிணே
चराचराचारविचारवर्यायசராசராசாரவிசாரவர்யாய
चराचरगुरवेசராசரகு³ரவே
चर्मवाससेசர்மவாஸஸே
चराचरायசராசராய
चराचरमयायசராசரமயாய
चारुलिङ्गायசாருலிங்கா³ய
चारुचामीकराभासायசாருசாமீகராபா⁴ஸாய
चारुचर्मांबरायசாருசர்மாம்ப³ராய
चारुस्मितायசாருஸ்மிதாய
चारुदीप्तयेசாருதீ³ப்தயே
चारुचन्द्रकलावतंसायசாரு சந்த்³ர கலாவதம்ʼஸாய
चारुप्रसन्नसुप्रीतवदनायசாருப்ரஸன்னஸுப்ரீதவத³னாய
चारुशीतांशुशकलशेखरायசாருஶீதாம்ʼஶுஶகலஶேக²ராய
चारुविक्रमायசாருவிக்ரமாய
चारुधिये नमः – २१२०சாருதி⁴யே நம​: – 2120



 Download
 
Post a Comment