Pages

Thursday, May 1, 2014

ஶிவம் 3921_3960



पादाय नमःபாதா³ய நம​:
पादाध्वनीरमांसादिकायபாதா³த்⁴வனீரமாம்ʼஸாதி³காய
पादापस्मृतिसंहर्त्रेபாதா³ப ஸ்ம்ருʼதி ஸம்ʼஹர்த்ரே
पादाहीनायபாதா³ஹீனாய
पादिमेढ्रायபாதி³மேட்⁴ராய
पादाशुश्रूषणासक्तनाक नारिसमावृतायபாதா³ஶு ஶ்ரூஷணா ஸக்த நாக நாரி ஸமா வ்ருʼதாய
पादभिन्नाहिलोकायபாத³பி⁴ன்னாஹி லோகாய
प्रधानायப்ரதா⁴னாய
प्रधानपुरुषायப்ரதா⁴ன புருஷாய
प्रधानपुरुषेशायப்ரதா⁴ன புருஷேஶாய
प्रधानप्रभवेப்ரதா⁴ன ப்ரப⁴வே
प्रधानधृतेப்ரதா⁴ன த்⁴ருʼதே
पन्नगायபன்னகா³ய
पन्नगांकाभायபன்னகா³ங்காபா⁴ய
पन्नगारातयेபன்னகா³ராதயே
पिनाकिनेபினாகினே
पिनाकायபினாகாய
पिनाकध्रुतेபினாக த்⁴ருதே
पिनाकभृतेபினாக ப்⁴ருʼதே
पिनाकहस्ताय नमः – ३९४०பினாக ஹஸ்தாய நம​: – 3940
पंपद्मविशालाक्षाय नमःபம்பத்³ம விஶாலாக்ஷாய நம​:
प्रपन्नदुःखनाशिनेப்ரபன்ன து³​:க² நாஶினே
प्रपञ्चनाशकल्पान्तभैरवायப்ரபஞ்ச நாஶ கல்பாந்த பை⁴ரவாய
प्रपथ्यायப்ரபத்²யாய
प्रपितामहायப்ரபிதாமஹாய
प्रपञ्चनामकाव्यक्तादिपृथिव्यन्तात्मनेப்ரபஞ்ச நாம காவ்யக்தாதி³ ப்ருʼதி²வ்யந்தாத்மனே
पापघ्नायபாபக்⁴னாய
पापहारिणेபாபஹாரிணே
पापारयेபாபாரயே
पापनाशनायபாப நாஶனாய
पापनाशकरायபாப நாஶகராய
पापराशिहरायபாபராஶிஹராய
पापनाशायபாப நாஶாய
प्रपुल्लनीलपङ्कजप्रपञ्चकालिम प्रभाविन्डबिकण्ठ कण्डलीरुचिप्रबद्धाकन्धरायப்ரபுல்ல நீல பங்கஜ ப்ரபஞ்ச காலிம ப்ரபா⁴வின்ட³பி³ கண்ட² கண்ட³லீ ருசி ப்ரப³த்³தா⁴ கந்த⁴ராய
प्रभवेப்ரப⁴வே
प्रपञ्जनायப்ரபஞ்ஜனாய
प्रभाकरायப்ரபா⁴கராய
प्रभवायப்ரப⁴வாய
प्रभिन्नायப்ரபி⁴ன்னாய
प्रभावाय नमः – ३९६०ப்ரபா⁴வாய நம​: – 3960

 
Post a Comment