Pages

Thursday, May 29, 2014

ஶிவம் 4521_4560



फलाय नमःப²லாய நம​:
फलदायப²லதா³ய
फलज्ञायப²லஜ்ஞாய
फलांकायப²லாங்காய
फलरूपिणेப²லரூபிணே
फाले भस्मरेखात्र्यान्विदायபா²லே ப⁴ஸ்மரேகா²த்ர்யான் விதா³ய
फालाक्षिजातज्वलनलेलिहानमनो भवायபா²லாக்ஷிஜாத ஜ்வலன லேலிஹான மனோ ப⁴வாய
फालाक्षायபா²லாக்ஷாய
फालाक्षि प्रभव प्रभञ्जन सखप्रोद्यत्स्फुलिङ्गाच्छटातूलानङ्गायபா²லாக்ஷி ப்ரப⁴வ ப்ரப⁴ஞ்ஜன ஸக²ப்ரோத்³யத் ஸ்பு²லிங்கா³ச்ச²டாதூலானங்கா³ய
फालचन्द्रायபா²லசந்த்³ராய
फालेक्षणानल विशोषित पञ्चबाणायபா²லேக்ஷணானல விஶோஷித பஞ்சபா³ணாய
फालेक्षणायபா²லேக்ஷணாய
फाललोचन जातपावक दग्धमन्मथ विग्रहायபா²லலோசன ஜாதபாவக த³க்³த⁴மன்மத² விக்³ரஹாய
फालनेत्रायபா²ல நேத்ராய
फुल्ल पद्मविशालाक्षायபு²ல்ல பத்³ம விஶாலாக்ஷாய
फं वाम कर्णाङ्गुलिकाय नमः – ४५३६ப²ம்ʼ வாம கர்ணாங்கு³லிகாய நம​: – 4536
बकारस्य अश्विनौ देवता | वातपित्तादिनाशये विनियोगःப³காரஸ்ய அஶ்வினௌ தே³வதா | வாதபித்தாதி³ நாஶயே வினியோக³​:
बीजाय नमःபீ³ஜாய நம​:
बीजमध्यस्थितायபீ³ஜமத்⁴ய ஸ்தி²தாய
बीजतोषितायபீ³ஜதோஷிதாய
बीजमुद्रास्वरूपिणे नमः – ४५४०பீ³ஜ முத்³ராஸ்வரூபிணே நம​: – 4540
बीजवाहनाय नमःபீ³ஜ வாஹனாய நம​:
बीजेशायபீ³ஜேஶாய
बीजाधारकरूपायபீ³ஜா தா⁴ரகரூபாய
बीजाध्यक्षायபீ³ஜாத்⁴யக்ஷாய
बीजकर्त्रेபீ³ஜ கர்த்ரே
बीजतन्त्रायபீ³ஜ தந்த்ராய
बीजनाशकायபீ³ஜ நாஶகாய
बीजयन्त्रस्थितायபீ³ஜ யந்த்ர ஸ்தி²தாய
बीजराजायபீ³ஜராஜாய
बीजहेतवेபீ³ஜஹேதவே
बीजवर्णस्वरूपायபீ³ஜவர்ணஸ்வரூபாய
बीजदायபீ³ஜதா³ய
बीजमात्रायபீ³ஜமாத்ராய
बीजवृद्धिदायபீ³ஜவ்ருʼத்³தி⁴தா³ய
बीजधरायபீ³ஜத⁴ராய
बीजासनसंस्थिताङ्गायபீ³ஜாஸனஸம்ʼஸ்தி²தாங்கா³ய
बीजरूपायபீ³ஜரூபாய
बीजपारायபீ³ஜபாராய
बीजसंस्थमरीचयेபீ³ஜஸம்ʼஸ்த²மரீசயே
बीजकोषाय नमः – ४५६०பீ³ஜகோஷாய நம​: – 4560


Post a Comment