Pages

Monday, May 19, 2014

ஶிவம் 4321_4360



पुष्पेषु प्राण हराय नमःபுஷ்பேஷு ப்ராண ஹராய நம​:
पुष्पबाणपुरन्ध्रीपूजितायபுஷ்பபா³ணபுரந்த்⁴ரீபூஜிதாய
पुष्पशरकामिनीसेवितायபுஷ்பஶர காமினீ ஸேவிதாய
पुष्पेषुपत्नीवरदायபுஷ்பேஷு பத்னீ வரதா³ய
पुष्परथाधिरूढायபுஷ்ப ரதா²தி⁴ரூடா⁴ய
पुष्पपरथारोहकौतुकिनेபுஷ்ப பரதா²ரோஹ கௌதுகினே
पुष्कर वर्मधरायபுஷ்கர வர்மத⁴ராய
पुष्कर वर्म शोभाकरायபுஷ்கர வர்ம ஶோபா⁴கராய
पुष्यमी प्रियशेखरायபுஷ்யமீ ப்ரியஶேக²ராய
पुष्प काधिप प्रियायபுஷ்ப காதி⁴ப ப்ரியாய
पुष्परसाभिषिक्तायபுஷ்பரஸாபி⁴ஷிக்தாய
पुष्परसाभिषेक प्रियायபுஷ்பரஸாபி⁴ஷேக ப்ரியாய
पूष्णेபூஷ்ணே
पूषमण्डल वासिनेபூஷமண்ட³ல வாஸினே
पूषनेत्रायபூஷ நேத்ராய
पूषपूज्यायபூஷபூஜ்யாய
प्रेष्यपोषकायப்ரேஷ்யபோஷகாய
प्रेष्यवृन्दस्तुतायப்ரேஷ்ய வ்ருʼந்த³ ஸ்துதாய
प्रेष्याप्सरः परिचारितायப்ரேஷ்யாப்ஸர​: பரிசாரிதாய
प्रेष्ठजनपालकाय नमः ४३४०ப்ரேஷ்ட² ஜன பாலகாய நம​: 4340
प्रेष्काय नमःப்ரேஷ்காய நம​:
प्रैष्टिकप्रियायப்ரைஷ்டிகப்ரியாய
प्रैष्टिकामोदशालिनेப்ரைஷ்டிகாமோத³ஶாலினே
प्रैष्टिकतुष्टचित्तायப்ரைஷ்டிகதுஷ்டசித்தாய
प्रोषितभर्तृका प्रियप्रदायப்ரோஷிதப⁴ர்த்ருʼகா ப்ரியப்ரதா³ய
प्रोषितनायिका संस्तुतायப்ரோஷித நாயிகா ஸம்ʼஸ்துதாய
पौष्पक प्रीतियुक्तायபௌஷ்பக ப்ரீதியுக்தாய
पौष्पकानुरक्तायபௌஷ்பகானுரக்தாய
पौष प्रियायபௌஷ ப்ரியாய
पौषोद्युक्तायபௌஷோத்³யுக்தாய
पौषीचन्द्रिका धवलायபௌஷீசந்த்³ரிகா த⁴வலாய
पुष्करायபுஷ்கராய
पुष्करस्रजेபுஷ்கரஸ்ரஜே
पुष्करनाल जन्मनेபுஷ்கரனால ஜன்மனே
पुष्टायபுஷ்டாய
पुष्टिवर्धनायபுஷ்டிவர்த⁴னாய
पुष्टिसंवर्धनायபுஷ்டிஸம்ʼவர்த⁴னாய
पुष्टानां पतयेபுஷ்டானாம்ʼ பதயே
पुष्टेशायபுஷ்டேஶாய
पुष्टिप्रदाय नमः – ४३६०புஷ்டிப்ரதா³ய நம​: – 4360

 
Post a Comment