Pages

Tuesday, May 27, 2014

ஶிவம் 4441_4480



पौंस्नाभीष्ट दायिने नमः பௌம்'ஸ்னாபீ⁴ஷ்ட தா³யினே நம​:
पांसव्यायபாம்ʼஸவ்யாய
प्रसन्नवदनायப்ரஸன்ன வத³னாய
प्रसन्नाननायப்ரஸன்னானனாய
प्रसन्नास्यायப்ரஸன்னாஸ்யாய
प्रसादाभिमुखायப்ரஸாதா³பி⁴முகா²ய
प्रसादायப்ரஸாதா³ய
प्रसन्नात्मनेப்ரஸன்னாத்மனே
प्रसन्नायப்ரஸன்னாய
प्रसिद्धायப்ரஸித்³தா⁴ய
प्रसन्नचित्तायப்ரஸன்னசித்தாய
प्रसवायப்ரஸவாய
प्रसृतायப்ரஸ்ருʼதாய
प्रस्थितायப்ரஸ்தி²தாய
पुंसेபும்ʼஸே
प्रस्कन्दनायப்ரஸ்கந்த³னாய
प्रहराणां वज्रायப்ரஹராணாம்ʼ வஜ்ராய
प्रहतप्राशितायப்ரஹதப்ராஶிதாய
प्रहितायப்ரஹிதாய
प्रहृष्टाय नमः – ४४६०ப்ரஹ்ருʼஷ்டாய நம​: – 4460
प्रहृष्टकगणसेविताय नमःப்ரஹ்ருʼஷ்டக க³ண ஸேவிதாய நம​:
प्रहेलिकाविदग्धायப்ரஹேலிகாவித³க்³தா⁴ய
प्रहतवैरिणेப்ரஹதவைரிணே
प्रहृतरिपुमण्डलायப்ரஹ்ருʼத ரிபு மண்ட³லாய
प्रहर्षकायப்ரஹர்ஷகாய
प्रहरणभूषणायப்ரஹரணபூ⁴ஷணாய
प्रहरणरूपिणेப்ரஹரணரூபிணே
प्रहरणदेवतास्तुतायப்ரஹரணதே³வதாஸ்துதாய
प्रहर्त्रेப்ரஹர்த்ரே
प्रहन्त्रेப்ரஹந்த்ரே
प्रहेतिवन्द्यायப்ரஹேதிவந்த்³யாய
प्रलयानलकृतेப்ரலயானலக்ருʼதே
प्रलयानलनाशकायப்ரலயானல நாஶகாய
प्रलयार्णव संस्थायப்ரலயார்ணவ ஸம்ʼஸ்தா²ய
प्रलयोत्पत्तिहेतवेப்ரலயோத்பத்திஹேதவே
प्रलयदग्धसुरासुरमानवायப்ரலயத³க்³த⁴ஸுராஸுரமானவாய
पक्षिणीचन्द्रिकाभायபக்ஷிணீசந்த்³ரிகாபா⁴ய
पक्षीन्द्रवाहनेड्यायபக்ஷீந்த்³ரவாஹனேட்³யாய
पक्षीशायபக்ஷீஶாய
पक्षीश्वरपूजिताय नमः – ४४८०பக்ஷீஶ்வரபூஜிதாய நம​: – 4480

 
Post a Comment