Pages

Monday, May 5, 2014

ஶிவம் 4001-4040



परार्थजापकब्रम्हबन्धुसद्बन्धवे नमःபரார்த² ஜாபக ப்³ரம்ஹ ப³ந்து⁴ ஸத்³ப³ந்த⁴வே நம​:
परमेश्वरागमहारायபரமேஶ்வராக³மஹாராய
परब्रह्मणेபரப்³ரஹ்மணே
परमूर्तयेபரமூர்தயே
परात्परायபராத்பராய
परामोदायபராமோதா³ய
परमधार्मिकायபரமதா⁴ர்மிகாய
परमायபரமாய
परमार्थायபரமார்தா²ய
परविद्याविकर्षणायபரவித்³யா விகர்ஷணாய
परमेशायபரமேஶாய
परायणायபராயணாய
परार्थिविदेபரார்தி²விதே³
पररहस्यविदेபர ரஹஸ்யவிதே³
परचक्रघ्नायபரசக்ரக்⁴னாய
परपुरञ्जयायபரபுரஞ்ஜயாய
परमेष्ठिनेபரமேஷ்டி²னே
परार्थैकप्रयोजनायபரார்தை²கப்ரயோஜனாய
परिवृतायபரிவ்ருʼதாய
परश्वधिने नमः – ४०२०பரஶ்வதி⁴னே நம​: – 4020
परावराय नमःபராவராய நம​:
परमात्मनेபரமாத்மனே
परस्मैபரஸ்மை
परमयायபரமயாய
पराजयायபராஜயாய
पराशरायபராஶராய
परावरपरायபராவரபராய
परकायकपण्डितायபரகாயக பண்டி³தாய
परार्थवृत्तयेபரார்த²வ்ருʼத்தயே
परमार्थगुरवेபரமார்த² கு³ரவே
परश्वधायुधायபரஶ்வதா⁴யுதா⁴ய
परिधीकृत खेचरायபரிதீ⁴ க்ருʼத கே²சராய
पर्यायायபர்யாயாய
परानतयेபரானதயே
परमेशानायபரமேஶானாய
परिवञ्चकायபரிவஞ்சகாய
परिचरायபரிசராய
पर्णशद्यायபர்ணஶத்³யாய
पर्ण्यायபர்ண்யாய
परापरेशाय नमः – ४०४०பராபரேஶாய நம​: – 4040

 
Post a Comment