Pages

Wednesday, May 7, 2014

ஶிவம் 4161_4200



पवित्रपाणये नमःபவித்ரபாணயே நம​:
प्रवरायப்ரவராய
प्रवृत्तेப்ரவ்ருʼத்தே
प्रवीणविविधभूत परिष्कृतायப்ரவீண விவித⁴ பூ⁴த பரிஷ்க்ருʼதாய
प्रवालशोणाधरायப்ரவாலஶோணாத⁴ராய
प्रवाहायப்ரவாஹாய
प्रवाह्यायப்ரவாஹ்யாய
प्लवनायப்லவனாய
पावकायபாவகாய
पावकाकृतयेபாவகாக்ருʼதயே
पावनायபாவனாய
पावायபாவாய
प्रावृडाकारायப்ராவ்ருʼடா³காராய
प्रावृट्कालप्रवर्तकायப்ராவ்ருʼட்கால ப்ரவர்தகாய
प्रावृट्कृतेப்ராவ்ருʼட் க்ருʼதே
प्रावृण्मयायப்ராவ்ருʼண்மயாய
प्रावृड्विनाशकायப்ராவ்ருʼட்³ வினாஶகாய
प्रांशवेப்ராம்ʼஶவே
पशुनामकसकलादि भेदबन्ध त्रायात्मनेபஶுனாமக ஸகலாதி³ பே⁴த³ ப³ந்த⁴ த்ராயாத்மனே
पशुपतये नमः – ४१८०பஶுபதயே நம​: – 4180
पशूपहाररसिकाय नमःபஶூபஹாரரஸிகாய நம​:
पशुमन्त्रौषधायபஶுமந்த்ரௌஷதா⁴ய
पश्चिमायபஶ்சிமாய
पशुघ्नायபஶுக்⁴னாய
पशुपाशणाशिनेபஶுபாஶ நாஶினே
पशुस्थायபஶுஸ்தா²ய
पाशायபாஶாய
पाशहरायபாஶஹராய
पाशनामक सकलादिक्षित्यन्त ब्रह्मात्मनेபாஶனாமக ஸகலாதி³க்ஷித்யந்த ப்³ரஹ்மாத்மனே
पाशहस्तायபாஶஹஸ்தாய
पाशिनेபாஶினே
पाशमोचनायபாஶமோசனாய
पाशाङ्कुशाभय वरप्रद शूलपाणयेபாஶாங்குஶாப⁴ய வரப்ரத³ ஶூலபாணயே
पाशत्रिशूल खट्वाङ्ग कुरङ्गधरायபாஶ த்ரிஶூல க²ட்வாங்க³ குரங்க³ த⁴ராய
प्रशस्तायப்ரஶஸ்தாய
प्रशस्तचारुविग्रहायப்ரஶஸ்த சாரு விக்³ரஹாய
प्रशान्तायப்ரஶாந்தாய
प्रशान्तात्मनेப்ரஶாந்தாத்மனே
प्रशान्तबुद्धयेப்ரஶாந்த பு³த்³த⁴யே
प्राम्शुज्योतिषे नमः -४२००ப்ராம்ஶுஜ்யோதிஷே நம​: -4200


டவுன்லோட் 
 
Post a Comment