Pages

Thursday, May 8, 2014

ஶிவம் 4081_4120



परिपूर्ण परानन्दाय नमःபரிபூர்ண பரானந்தா³ய நம​:
परचित्सत्यविग्रहायபரசித் ஸத்ய விக்³ரஹாய
परानन्दप्रदायकायபரானந்த³ ப்ரதா³யகாய
पर्वताधीशजामात्रेபர்வதாதீ⁴ஶ ஜாமாத்ரே
परिपूरणायபரிபூரணாய
परिवञ्चतेபரிவஞ்சதே
परमपदायபரமபதா³ய
परशवेபரஶவே
परितोऽपिविद्यमानाय *பரிதோ(அ)பிவித்³யமானாய *
परब्रह्मस्वरूपिणेபரப்³ரஹ்மஸ்வரூபிணே
पार्वतीरमणायபார்வதீ ரமணாய
पार्वतीशायபார்வதீஶாய
पार्वतीपतयेபார்வதீ பதயே
पारिजातायபாரிஜாதாய
पारिजातसुपुष्पायபாரிஜாதஸு புஷ்பாய
पार्वतीमनोहरप्रियायபார்வதீ மனோஹர ப்ரியாய
पार्वतीहृदयवल्लभायபார்வதீ ஹ்ருʼத³ய வல்லபா⁴ய
पारिजातगुणातीतपादपङ्गजवैभवायபாரிஜாத கு³ணாதீத பாத³பங்க³ஜ வைப⁴வாய
पार्वतीप्राणरूपिणेபார்வதீ ப்ராண ரூபிணே
पाराय नमः – ४१००பாராய நம​: – 4100
पारिषदप्रियाय नमःபாரிஷத³ ப்ரியாய நம​:
पार्यायபார்யாய
प्रारब्धजन्ममरणमोचकायப்ராரப்³த⁴ ஜன்ம மரண மோசகாய
प्रार्थितदायिनेப்ரார்தி²த தா³யினே
पुरातनायபுராதனாய
पुराणायபுராணாய
पुरुषायபுருஷாய
पुराणपुरुषायபுராண புருஷாய
पुराणागमसूचकायபுராணாக³ம ஸூசகாய
पुराणवेत्रेபுராணவேத்ரே
पुरुहूतायபுருஹூதாய
पुरुष्टुतायபுருஷ்டுதாய
पुरुजितेபுருஜிதே
पुरुषेशायபுருஷேஶாய
पुरन्दरायபுரந்த³ராய
पुरत्रयविघातिनेபுர த்ரய விகா⁴தினே
पुराणप्रभवेபுராண ப்ரப⁴வே
पुराणवृषभायபுராண வ்ருʼஷபா⁴ய
पुरस्ताद्बृंहतेபுரஸ்தாத்³ ப்³ரும்ʼʼஹதே
पुरघ्नाय नमः – ४१२०புரக்⁴னாய நம​: – 4120

 
Post a Comment