Pages

Thursday, May 15, 2014

ஶிவம் 4241_4280



प्राशितमुदितान्तरङ्गाय नमःப்ராஶிதமுதி³தாந்தரங்கா³ய நம​:
पाश्याबद्धजन भीतिहृतेபாஶ்யாப³த்³த⁴ஜன பீ⁴திஹ்ருʼதே
पाश्चात्यपूजितायபாஶ்சாத்ய பூஜிதாய
पाश्चात्यवदनांचितायபாஶ்சாத்ய வத³னாஞ்சிதாய
पाश्चात्यवरदायபாஶ்சாத்ய வரதா³ய
पाशुपाल्यव्रतधरायபாஶு பால்ய வ்ரத த⁴ராய
पिशाचगणसेवितायபிஶாச க³ண ஸேவிதாய
पशाचिकगणेशायபஶாசிக க³ணேஶாய
पिशुनायபிஶுனாய
पिशुनान्तकायபிஶுனாந்தகாய
पिशिताशन वरदायபிஶிதாஶன வரதா³ய
पिशिताशनेन्द्रपूजितायபிஶிதாஶனேந்த்³ரபூஜிதாய
पिशिताशहृतेபிஶிதாஶ ஹ்ருʼதே
पिशितभुग्दण्डन पण्डितायபிஶித பு⁴க்³ த³ண்ட³ன பண்டி³தாய
पिशङ्गलोचनायபிஶங்க³ லோசனாய
पिशङ्गजटाजूडायபிஶங்க³ஜடாஜூடா³ய
पिशितामोदिताङ्गायபிஶிதாமோதி³ தாங்கா³ய
पिशितचूर्नोत्सवप्रियायபிஶித சூர்னோத்ஸவ ப்ரியாய
पिशितवासनावासितायபிஶித வாஸனாவாஸிதாய
पिशुनान्चितचन्दन चर्चिताङ्गाय नमः – ४२६०பிஶுனான்சித சந்த³ன சர்சிதாங்கா³ய நம​: – 4260
पिशुनङ्गधप्रियाय नमःபிஶுனங்க³த⁴ ப்ரியாய நம​:
पिशुनपङ्काभिषिक्तायபிஶுன பங்காபி⁴ஷிக்தாய
पुंश्चलीदूरायபும்ʼஶ்சலீதூ³ராய
पुंश्चलीकृत मुनि भार्यायபும்ʼஶ்சலீ க்ருʼத முனி பா⁴ர்யாய
पुंश्चलीदोषनिर्मुक्तमुन्यंगनायபும்ʼஶ்சலீ தோ³ஷ நிர்முக்த முன்யங்க³னாய
पुंश्चलीप्राणनाथायபும்ʼஶ்சலீ ப்ராண நாதா²ய
पेशलायபேஶலாய
पेशलाङ्गायபேஶலாங்கா³ய
पेशलगुणायபேஶலகு³ணாய
पेशिपिहितखड्गायபேஶிபிஹித க²ட்³கா³ய
पेशिकोश पोषकायபேஶிகோஶ போஷகாய
पेशिकोश गर्भायபேஶிகோஶ க³ர்பா⁴ய
पेशिकोशीभूतभुवनायபேஶிகோஶீ பூ⁴த பு⁴வனாய
पेशी प्रियायபேஶீ ப்ரியாய
पाषाण भेदकायुधायபாஷாண பே⁴த³காயுதா⁴ய
पाषाणगौरिक वर्णायபாஷாண கௌ³ரிக வர்ணாய
पाषाणगर्भक दोषहीन रत्न कुण्डलायபாஷாணக³ர்ப⁴க தோ³ஷஹீன ரத்ன குண்ட³லாய
पाषण्ड जनदूरायபாஷண்ட³ ஜனதூ³ராய
पाषण्डीमदहरायபாஷண்டீ³மத³ஹராய
पाषाण कठिनोरस्काय नमः – ४२८०பாஷாண கடி²னோரஸ்காய நம​: – 4280

 
Post a Comment