Pages

Friday, May 9, 2014

ஶிவம் 4121_4160



पुरेशयाय नमःபுரேஶயாய நம​:
पुराणलिङ्गायபுராணலிங்கா³ய
पुरुषलिङ्गायபுருஷலிங்கா³ய
पुरच्छेत्रेபுரச்சே²த்ரே
पुरन्तकायபுரந்தகாய
पुरुषश्रेष्ठायபுருஷ ஶ்ரேஷ்டா²ய
पुरत्रयारयेபுரத்ரயாரயே
पुरारयेபுராரயே
पुरत्रयरिपवेபுரத்ரயரிபவே
पुरत्रयनाशायபுரத்ரய நாஶாய
पुरंदरनुतांघ्रयेபுரந்த³ரனுதாங்க்⁴ரயே
पुरंदरवरप्रदायபுரந்த³ர வர ப்ரதா³ய
पुरंदरविमानगायபுரந்த³ர விமானகா³ய
पुरहरायபுரஹராய
पुरवैरिणेபுரவைரிணே
पुरच्छिदेபுரச்சி²தே³
पुरस्त्यादिमहद्दिव्य पञ्चब्रह्म मुखान्वितायபுரஸ்த்யாதி³ மஹத்³தி³வ்ய பஞ்ச ப்³ரஹ்ம முகா²ன்விதாய
पुरुनाम्नेபுருனாம்னே
पुरुरूपायபுருரூபாய
पुरुषोत्तमरूपाय नमः – ४१४०புருஷோத்தம ரூபாய நம​: – 4140
पूर्णरूपाय नमःபூர்ணரூபாய நம​:
पूर्णानन्दायபூர்ணானந்தா³ய
पूरयित्रेபூரயித்ரே
पूर्वजायபூர்வஜாய
पूर्तमूर्तयेபூர்தமூர்தயே
पूर्णायபூர்ணாய
पूर्वायபூர்வாய
पल्लविनेபல்லவினே
प्रलम्ब भोगीन्द्र लुलुन्त कण्ठायப்ரலம்ப³ போ⁴கீ³ந்த்³ர லுலுந்த கண்டா²ய
पालन तत्परायபாலன தத்பராய
पालाशकृन्ततेபாலாஶக்ருʼந்ததே
पालाधिपतयेபாலாதி⁴பதயே
पुलस्तयेபுலஸ்தயே
पुलस्त्यायபுலஸ்த்யாய
पुलहायபுலஹாய
पवनवेगायபவனவேகா³ய
पवनरूपिणेபவனரூபிணே
पवनाशनभूषणायபவனாஶன பூ⁴ஷணாய
पवित्रायபவித்ராய
पवित्रदेहाय नमः – ४१६०பவித்ர தே³ஹாய நம​: – 4160


 
Post a Comment