Pages

Wednesday, May 21, 2014

ஶிவம் 4361_4400


4361_4400

पुष्पवस्तु स्वरूपायபுஷ்பவஸ்து ஸ்வரூபாய
पुष्पवद्वह्निनयनायபுஷ்பவத்³வஹ்னி நயனாய
पुष्पमालिनेபுஷ்பமாலினே
पुष्पचाप विभञ्जकायபுஷ்பசாப விப⁴ஞ்ஜகாய
पुष्पदन्तान्तकायபுஷ்பத³ந்தாந்தகாய
पुष्पदन्त विनाशायபுஷ்பத³ந்த வினாஶாய
पूषदन्त भिदेபூஷத³ந்த பி⁴தே³
पूषदन्तहृते பூஷத³ந்த ஹ்ருʼதே
पृषदश्वायப்ருʼஷத³ஶ்வாய
प्रसन्नेश्वरायப்ரஸன்னேஶ்வராய
प्रसादशीलायப்ரஸாத³ஶீலாய
प्रसाद सुमुखायப்ரஸாத³ ஸுமுகா²ய
प्रसादित निशाचरायப்ரஸாதி³த நிஶாசராய
प्रसाद गोचरीकृत सुरसंघायப்ரஸாத³ கோ³சரீக்ருʼத ஸுரஸங்கா⁴ய
प्रसवित्रेப்ரஸவித்ரே
प्रस्रवणाचलवासायப்ரஸ்ரவணாசல வாஸாய
प्रस्रवणप्रियायப்ரஸ்ரவண ப்ரியாய
प्रसारिणीप्रायजटालतायப்ரஸாரிணீப்ராய ஜடாலதாய
प्रसृतधृत विषभक्षकायப்ரஸ்ருʼதத்⁴ருʼத விஷப⁴க்ஷகாய
प्रसृतीकृत सागराय नमः – ४३८०ப்ரஸ்ருʼதீ க்ருʼத ஸாக³ராய நம​: – 4380
प्रसन्न हृदयाय नमःப்ரஸன்ன ஹ்ருʼத³யாய நம​:
प्रस्मृतीकृत भक्तापराधायப்ரஸ்ம்ருʼதீ க்ருʼத ப⁴க்தா பராதா⁴ய
प्रसाधित निजशरीरायப்ரஸாதி⁴த நிஜஶரீராய
प्रसारीत वश्यलोकायப்ரஸாரீத வஶ்யலோகாய
प्रसितजन शङ्करायப்ரஸிதஜன ஶங்கராய
प्रस्थित क्रोधायப்ரஸ்தி²த க்ரோதா⁴ய
प्रस्तुताकारायப்ரஸ்துதாகாராய
प्रसोष्यन्तीपालकायப்ரஸோஷ்யந்தீ பாலகாய
प्रसूतिकरायப்ரஸூதி கராய
प्रसूतिजनकायப்ரஸூதி ஜனகாய
प्रसूतरक्षणतत्परायப்ரஸூத ரக்ஷண தத்பராய
प्रसूजनयितृरूपायப்ரஸூ ஜனயித்ருʼ ரூபாய
प्रस्तोतृगीतायப்ரஸ்தோத்ருʼ கீ³தாய
पुस्तकालन्कृतहस्तायபுஸ்தகாலன்க்ருʼத ஹஸ்தாய
प्रसृतकीर्तयेப்ரஸ்ருʼத கீர்தயே
प्रसरप्रदायப்ரஸர ப்ரதா³ய
प्रसरशूरायப்ரஸரஶூராய
प्रसरनिरतायப்ரஸரனிரதாய
प्रसरवृषभवाहायப்ரஸர வ்ருʼஷப⁴ வாஹாய
प्रसरशायिने – ४४००ப்ரஸரஶாயினே – 4400


Download
 
Post a Comment