Pages

Monday, January 27, 2014

ஶிவன் 1081 -1120




अंतस्सत्व गुणोभ्दासि शुद्धस्फटिक विग्रहाय அந்தஸ்ஸத்வ கு³ணோப்⁴தா³ஸி ஶுத்³த⁴ஸ்ப²டிக விக்³ரஹாய
अंतक वरप्रदाय அந்தக வரப்ரதா³ய
अंतकाय அந்தகாய
अंतर्हिताय அந்தர்ஹிதாய
अंतर्यामिणे அந்தர்யாமிணே
अंत्य कालाधिपतये அந்த்ய காலாதி⁴பதயே
अंतरात्मने அந்தராத்மனே
अंतकांतक्रुते அந்தகாந்தக்ருதே
अंताय அந்தாய
अंतकराय அந்தகராய
अंतकारिणे அந்தகாரிணே
अंतरिक्षाय அந்தரிக்ஷாய
अंतर्हितात्मने அந்தர்ஹிதாத்மனே
अंधकासुर सूदनाय அந்த⁴காஸுர ஸூத³னாய
अंधकारये அந்த⁴காரயே
अंधसस्पते அந்த⁴ஸஸ்பதே
अंधकासुर हन्त्रे அந்த⁴காஸுர ஹந்த்ரே
अंधकान्तकाय அந்த⁴காந்தகாய
अंधकघातिने அந்த⁴ககா⁴தினே
अंधकासुर संहर्त्रे नम: - ११००அந்த⁴காஸுர ஸம்ʼஹர்த்ரே நம: - 1100
अंधकरिपवे नम: அந்த⁴கரிபவே நம:
अंधकासुर भञ्जनाय அந்த⁴காஸுர ப⁴ஞ்ஜனாய
अंधकारि निषूदनाय அந்த⁴காரி நிஷூத³னாய
अंबर वासाय அம்ப³ர வாஸாய
अंबिकानाथाय அம்பி³கானாதா²ய
अंबिकाधिपतये அம்பி³காதி⁴பதயே
अंबिकार्ध शरीरिणे அம்பி³கார்த⁴ ஶரீரிணே
अंबरवाससे அம்ப³ரவாஸஸே
अंबाया: परमेशाय அம்பா³யா: பரமேஶாய
अंबिकापतये அம்பி³காபதயே
अंबिकाभर्त्रे அம்பி³காப⁴ர்த்ரே
अंबरकेशाय அம்ப³ரகேஶாய
अंबराङ्गाय அம்ப³ராங்கா³ய
अंबुजालाय அம்பு³ஜாலாய
अंभसांपतये அம்ப⁴ஸாம்பதயே
अंभोज नयनाय அம்போ⁴ஜ நயனாய
अंभसे அம்ப⁴ஸே
अंभोनिधये அம்போ⁴னித⁴யே
अंशवे அம்ʼஶவே
अंशुकागम पृष्ठाय नम: - ११२०அம்ʼஶுகாக³ம ப்ருʼஷ்டா²ய நம: - 1120



 
Post a Comment