Pages

Saturday, January 4, 2014

ஶிவன் 421-460


अर्यम्णे அர்யம்ணே
अर्थितव्याय அர்தி²தவ்யாய
अरिष्ट मथनाय அரிஷ்ட மத²னாய
अरोगाय அரோகா³ய
अरिन्दमाय அரிந்த³மாய
अर्धचन्द्र चूडाय அர்த⁴சந்த்³ர சூடா³ய
अरूपाय அரூபாய
अर्धनारीश्वराय அர்த⁴னாரீஶ்வராய
अर्च्य मेढ्राय அர்ச்ய மேட்⁴ராய
अरिमर्दनाय அரிமர்த³னாய
अर्ध हाराय அர்த⁴ ஹாராய
अर्धमात्रा रूपाय அர்த⁴மாத்ரா ரூபாய
अर्धकायाय அர்த⁴காயாய
अर्कप्रभ शरीराय அர்கப்ரப⁴ ஶரீராய
अरण्येशाय அரண்யேஶாய
अरिष्ट नाशकाय அரிஷ்ட நாஶகாய
अरुणाय அருணாய
अरिषड्वर्ग दूराय அரிஷட்³வர்க³ தூ³ராய
अरिसूदनाय - ४४०அரிஸூத³னாய - 440
अर्थात्मने அர்தா²த்மனே
अर्थिनां निधये அர்தி²னாம்ʼ நித⁴யே
अरिषड्वर्ग नाशकाय அரிஷட்³வர்க³ நாஶகாய
अर्धनारीश्वरादि चतुर्मूर्ति प्रतिपादकान्तर वदनाय அர்த⁴னாரீஶ்வராதி³ சதுர்மூர்தி ப்ரதிபாத³காந்தர வத³னாய
अर्धनारी शुभांगाय அர்த⁴னாரீ ஶுபா⁴ங்கா³ய
अरातये அராதயே
अरुष्कराय அருஷ்கராய
अरिष्ट नेमये அரிஷ்ட நேமயே
अर्हाय அர்ஹாய
अर्धादिकाय அர்தா⁴தி³காய
अरिमथनाय அரிமத²னாய
अरण्यानां पतये அரண்யானாம்ʼ பதயே
अरथेभ्य: அரதே²ப்⁴ய:
अर्थ पुल्लेक्षणाय அர்த² புல்லேக்ஷணாய
अर्थितादधिक प्रदाय அர்தி²தாத³தி⁴க ப்ரதா³ய
अर्ध हारार्ध केयूर स्वर्ध कुण्डल कर्णिने அர்த⁴ ஹாரார்த⁴ கேயூர ஸ்வர்த⁴ குண்ட³ல கர்ணினே
अर्ध चन्दन लिप्ताय அர்த⁴ சந்த³ன லிப்தாய
अर्धस्रगनु लेपिने அர்த⁴ஸ்ரக³னு லேபினே
अर्ध पीतार्ध पाण्डवे அர்த⁴ பீதார்த⁴ பாண்ட³வே
अलघवे - ४६०அலக⁴வே - 460

 
Post a Comment